PreviousNext

यहां की महिलाएं राज मिस्त्री बन पेश कर रही हैं मिसाल

Publish Date:Sat, 20 May 2017 10:49 AM (IST) | Updated Date:Sat, 20 May 2017 11:17 AM (IST)
यहां की महिलाएं राज मिस्त्री बन पेश कर रही हैं मिसालयहां की महिलाएं राज मिस्त्री बन पेश कर रही हैं मिसाल
राजमिस्त्री का प्रशिक्षण प्राप्त कर सैकड़ों शौचालयों का किया निर्माण...

गिरिडीह (ब्युरो)। पुरुषों के एकाधिकार वाले कई कार्यों में अब महिलाएं भी भागीदारी निभाने लगी हैं। ऐसा ही काम है राजमिस्त्री का जिसे महिलाएं भी सफलतापूर्वक करने लगी हैं। गिरिडीह में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत कई महिलाओं ने बतौर राजमिस्त्री सैकड़ों शौचालयों का निर्माण कर मिसाल पेश की।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत जिले में कार्यरत झारखंड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी (जेएसएलपीएस) की ओर से स्वयंसहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ने और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए विभिन्न तरह के प्रशिक्षण दिए जा रहे हैं, जिनमें राजमिस्त्री का प्रशिक्षण भी शामिल है। जिलेभर में 60 महिलाओं ने एक माह तक यह प्रशिक्षण प्राप्त किया। इसके बाद वे शौचालय के निर्माण कार्य में जुट गईं। वे महिलाएं बेंगाबाद प्रखंड में बतौर राजमिस्त्री सैकड़ों शौचालयों का निर्माण कर चुकी हैं।

बेंगाबाद को ओडीएफ बनाने में अहम योगदान : बता दें कि बीते माह बेंगाबाद को खुले में शौचमुक्त (ओडीएफ) प्रखंड घोषित किया जा चुका है। इस प्रखंड को ओडीएफ बनाने में महिलाओं का अहम योगदान रहा है। एक ओर जहां महिलाओं ने बतौर राजमिस्त्री शौचालय निर्माण में सहयोग किया, वहीं अन्य महिलाओं को शौचालय का निर्माण कराने के लिए प्रेरित भी किया।

-ज्ञान ज्योति

यह भी पढ़ें : फुटबॉल में बेटों को मात देती एक बेटी

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:The example of women becoming a Raj Mistry(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

गांव की 7000 बेटियों का घर बसाकर परोपकार की नई मिसाल कायम कर रहे हैं येमालदीव ब्लॉगर रशीद की हत्या के मामले में उनके पिता ने मांगी भारत से मदद
यह भी देखें