PreviousNext

एनआइए के निशाने पर अब जमात-उल-मुजाहिदीन के चीफ

Publish Date:Sun, 02 Oct 2016 12:53 AM (IST) | Updated Date:Sun, 02 Oct 2016 04:23 AM (IST)
एनआइए के निशाने पर अब जमात-उल-मुजाहिदीन के चीफ
सूत्रों ने बताया कि 2014 में अपने गुर्गो द्वारा बांग्लादेश में एक जेल वैन से छुड़ाने के बाद लगातार फरार चल रहे सलाउद्दीन को पकड़ने के लिए एजेंसी अपने सभी संसाधनों का उपयोग करेगी।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता । पश्चिम बंगाल व असम से पिछले सप्ताह जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) के छह आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की नजर अब जेएमबी मुखिया सलाउद्दीन पर टिक गई है। सूत्रों की मानें तो एनआइए को आशंका है कि सलाउद्दीन भारत में ही छिपा हो सकता है।

सूत्रों ने बताया कि 2014 में अपने गुर्गो द्वारा बांग्लादेश में एक जेल वैन से छुड़ाने के बाद लगातार फरार चल रहे सलाउद्दीन को पकड़ने के लिए एजेंसी अपने सभी संसाधनों का उपयोग करेगी। इधर जेएमबी आतंकियों की हाल में गिरफ्तारी के बाद बांग्लादेशी जांच एजेंसी भी एनआइए के लगातार संपर्क में है। खबर है कि सलाउद्दीन को लेकर दोनों देशों की सुरक्षा एजेंसियों के बीच महत्वपूर्ण बातचीत हुई है।

दूसरी ओर कोलकाता एसटीएफ द्वारा असम व पश्चिम बंगाल के विभिन्न क्षेत्रों से गिरफ्तार जेएमबी आतंकियों को एनआइए तुरंत हिरासत में लेकर पूछताछ की जल्दबाजी में नहीं है। सभी छह आतंकी अभी एसटीएफ की हिरासत में है और इनमें से पांच का संबंध 2014 के ब‌र्द्धमान विस्फोट से है, जिसकी जांच एनआइए कर रही है। एनआइए अधिकारियों का कहना है कि एसटीएफ सही दिशा में जांच कर रही है और एजेंसी इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं करना चाहती।

उन्होंने कहा कि एसटीएफ की जांच पर पूरा भरोसा है एवं उसने बहुत अच्छा काम किया है। एनआइए अधिकारियों के मुताबिक एसटीएफ उन्हें जांच के बारे में लगातार अपडेट करा रही है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि गिरफ्तार छह में से पांच आतंकियों के खिलाफ एनआइए ब‌र्द्धमान विस्फोट के सिलसिले में पहले ही चार्जशीट दायर कर चुकी है। इसलिए जरूरत पड़ने पर कभी भी हम आतंकियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर सकते हैं।

पढ़ेंः उड़ी हमला: पीर चना साईं आतंकी प्रशिक्षण शिविर से आए थे हमलावर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Now JMB chief on targets of NIA(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

मेड इन इंडिया जेसीबी का 65 देशों को निर्यातहांगकांग में नौकरी के नाम पर ठगी कर रही थी रिटायर्ड फौजी की पत्नी
यह भी देखें