PreviousNext

मून से शिकायत के बाद नेपाल ने दी चीन के साथ जाने की धमकी

Publish Date:Mon, 05 Oct 2015 03:45 AM (IST) | Updated Date:Mon, 05 Oct 2015 10:36 AM (IST)
मून से शिकायत के बाद नेपाल ने दी चीन के साथ जाने की धमकी
संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून से शिकायत करने के बाद नेपाल ने अब भारत को धमकी देना शुरू कर दिया है। नेपाल के राजदूत ने कहा है कि अगर भारत ने हमें पीछे धकेलना जारी रखा तो चीन क

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून से शिकायत करने के बाद नेपाल ने अब भारत को धमकी देना शुरू कर दिया है। नेपाल के राजदूत दीप कुमार उपाध्याय ने कहा है कि अगर भारत ने हमें पीछे धकेलना जारी रखा तो मजबूरन हमें मदद के लिए चीन और अन्य देशों की ओर हाथ बढ़ाना पड़ेगा। हालांकि, तार्किक रूप से यह हमारे लिए कठिन होगा, लेकिन मरता क्या न करता की स्थिति में हमारे पास कोई दूसरा विकल्प भी नहीं होगा। नेपाली राजदूत ने रविवार को एक विशेष भेंट में कहा कि पेट्रोल और अन्य जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति रोककर भारत हमारे विकल्प सीमित कर रहा है। हमें समस्या के जल्द समाधान का आश्वासन दिया गया था, लेकिन कुछ नहीं हुआ है। उनको एक समय सीमा बतानी चाहिए। जल्द का मतलब कुछ घंटों से है, कुछ हफ्तों से है या कुछ महीनों से है?

उपाध्याय ने कहा कि हमने भारत को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति लगातार बाधित रहने से होने वाली परेशानियों के बारे में अवगत करा दिया है। हमें उम्मीद है कि नई दिल्ली की ओर से समस्या के समाधान के लिए जल्द कदम उठाया जाएगा। खासतौर से यह देखते हुए कि आगे दशहरा और दिवाली भी है। हमारे लिए यह बड़ा मौका होता है।

नेपाल में भारत विरोधी आंदोलनों के ताजा दौर के बारे में उपाध्याय ने कहा कि भूकंप के समय इसने हमारी मदद की थी। उस समय हमारे यहां का हर आदमी भारत की प्रशंसा कर रहा था। अब जब इसने हमारी आपूर्ति रोक दी है, तो लोग प्रदर्शन पर उतर आए हैं। यह स्वाभाविक है। हालांकि नेपाल के आरोपों के जवाब में भारत का कहना है कि उसने किसी तरह का प्रतिबंध नहीं लगाया है। मधेशियों के आंदोलन के चलते सामानों की ढुलाई में बाधा आ रही है।

भारत से सामानों की आपूर्ति शुरू

काठमांडू। भारत से सामानों की आपूर्ति बहाल होने से नेपाल ने राहत की सांस ली है। आपूर्ति बंद होने के 11 दिन बाद रविवार को सामान से लदे सैकड़ों ट्रकों के अलावा दर्जनों तेल टैंकरों ने कई चेक प्वाइंट के रास्ते नेपाल की सीमा में प्रवेश किया। भैरहवा-सुनौली के रास्ते से 50 ट्रकों और तेल टैंकरों को नेपाल भेजा गया। इसके अलावा विराटनगर-जोगबनी के रास्ते भी सामान से लदे दर्जनों ट्रक नेपाल में दाखिल हुए हैं। भैरहवा-सुनौली से होकर शनिवार को 140 ट्रक सामान, छह तेल टैंकर और दो रसोई गैस लदे वाहन भेजे गए थे। हालांकि, रक्सौल-वीरगंज के रास्ते पर अब भी गतिरोध कायम है।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Nepal threatens to go with China(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

VIDEO: रेस्टोरेंट में युवक की रॉड से पीट-पीटकर हत्या, CCTV में कैद हुई घटनापाक घुसपैठियों की खैर नहीं, सीमा पर होगी रिमोट कंट्रोल गन्स
यह भी देखें