PreviousNext

यूएस-2 विमान पर निकाला जा सकता है बीच का रास्ता

Publish Date:Wed, 13 Sep 2017 10:05 PM (IST) | Updated Date:Wed, 13 Sep 2017 10:05 PM (IST)
यूएस-2 विमान पर निकाला जा सकता है बीच का रास्तायूएस-2 विमान पर निकाला जा सकता है बीच का रास्ता
विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक नौसेना क्षेत्र में जापान की तरफ से व्यापक सहयोग का प्रस्ताव पहले ही रखा जा चुका है।

नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। पीएम नरेंद्र मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे की अगुवाई में गुरुवार को अहमदाबाद में जब सालाना बैठक की शुरुआत होगी तो दोनो पक्षों की तरफ से यह कोशिश होगी कि रक्षा सौदों पर पिछले कई वर्षो से हो रही वार्ता को अब अंतिम रूप दिया जाए। खास तौर पर जापान के यूएस-2 विमानों की कीमतों पर दोनो पक्ष अपने अड़ियल रवैये को छोड़ कर इसकी खरीद से जुड़े सौदे की राह निकाल सकते हैं। यह ऐसा सौदा होगा जिसकी न सिर्फ रणनीतिक जरूरत दोनो पक्ष महसूस कर रहे हैं बल्कि सौदा पक्का होने को मोदी और आबे अपनी कूटनीति की विजय के तौर पर भी घरेलू राजनीति में पेश कर सकते हैं।

सूत्रों के मुताबिक द्विपक्षीय सालाना बैठक का इस बार एजेंडा पिछले कई वर्षो के मुकाबले काफी व्यापक है लेकिन निश्चित तौर पर रक्षा और सुरक्षा पर खास तवज्जो होगा। यह खास तौर पर हाल के महीनों में दोनो देशों के खिलाफ चीन के आक्रामक हो रहे तेवर को देखते हुए अहम हो गये हैं। दोनो देशों के संयुक्त सहयोग से श्रीलंका और ईरान में दो बंदरगाहों के विकास का मुद्दा भी एजेंडे में है। साथ ही अफ्रीका में किस तरह से चीन के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए कदम उठाया जाए, इसका रणनीति को अंतिम रूप भी मोदी और आबे के सामने देने की कोशिश की जाएगी।

विदेश मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक नौसेना क्षेत्र में जापान की तरफ से व्यापक सहयोग का प्रस्ताव पहले ही रखा जा चुका है। कुछ दिन पहले जब बतौर रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने जापान की यात्रा की थी तब इस बारे में विस्तार से चर्चा हुई थी। अब शीर्ष स्तर पर यह फैसला किया जाए कि किस तरह से नौसैनिक सहयोग को आगे बढ़ाया जाए। जापान को अब भारत और अमेरिका के साथ संयुक्त नौ सेना अभ्यास में शामिल किया गया है लेकिन जापान चाहता है कि वह भारत के साथ अलग से नौ सेना सहयोग स्थापित करे। इसमें संयुक्त तौर पर अत्याधुनिक पनडुब्बी निर्माण भी शामिल है। जापान भारत के अंडमान निकोबार द्वीप में अत्याधुनिक नौ सैनिक अड्डा बनाने में भी मदद देने को तैयार है। यूएस-2 विमान एक ऐसा मुद्दा है जिस पर दोनो पक्षों के बीच सहमति है लेकिन कीमत की वजह से मामला अटक गया है। अब माना जा रहा है कि दोनो देश बीच का रास्ता निकालने को तैयार हैं। भारत इस श्रेणी के 12 से 18 जहाज खरीदना चाहता है ताकि पूरे समुद्री इलाके में सैन्य कार्रवाइयों को धार दी जा सके। 

यह भी पढ़ें: साबरमती आश्रम के बाद पीएम ने एबी को दिखाई सीदी सैयद मस्जिद

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:narendra modi and shinzo abe will talks on defence deal(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

चुनाव आयोग ने कहा, नोटा को लेकर दायर याचिका खारिज होएनआरआइ शादी के लिए अनिवार्य बनाएं आधार
यह भी देखें