PreviousNext

इंटरमिंगलिंग इंडिया ने सेवा बस्तियों में अपनी योजना को दिया अनूठा अंजाम

Publish Date:Wed, 19 Oct 2016 01:49 PM (IST) | Updated Date:Wed, 19 Oct 2016 02:04 PM (IST)
इंटरमिंगलिंग इंडिया ने सेवा बस्तियों में अपनी योजना को दिया अनूठा अंजाम
6 माह चले इस प्रशिक्षण द्वारा बच्चियों को 100 घंटे सैद्धांतिक व 50 घंटे व्यावहारिक शिक्षा प्रदान की गई जिसमें उन्हें मधुमेह, रक्तचाप , हृदय रोग, दमा , कैंसर इत्यादि रोगों के कारणों

नई दिल्ली, जेएनएन। इंटरमिंगलिंग इंडिया ने सेवा बस्तियों में अपने कार्यों को और मजबूती से रखने की योजना को अनूठा अंजाम देते हुये 12वीं कक्षा उत्तीर्ण 30 युवतियों का चयन सेवा बस्तियों से ही किया एवं उनका स्वास्थ्य संबंधी कौशल विकास का प्रशिक्षण किया।

6 माह चले इस प्रशिक्षण द्वारा बच्चियों को 100 घंटे सैद्धांतिक व 50 घंटे व्यावहारिक शिक्षा प्रदान की गई जिसमें उन्हें मधुमेह, रक्तचाप , हृदय रोग, दमा , कैंसर इत्यादि रोगों के कारणों व रोकथाम में उनकी महती भूमिका की
जानकारी उल्लेखनीय है। सेंट जोन्स ब्रिगेड की प्राथमिक उपचार, इमरजेन्सी केयर तथा होम नर्सिंग की सर्टिफिकेट ट्रेनिंग का भी उन्हें लाभ मिला।

दिल्ली पुलिस प्रदत्त आत्मरक्षा ज्ञान ने भी उनका आत्मविश्वास बढ़ाया। इस प्रशिक्षण के समन्वयक डा राजेश पार्थसारथी ने बताया कि शिक्षण उपरांत लड़कियों का आत्मविश्वास देखते ही बनता है। 30 में से 15 आज नौकरी पाकर आत्मनिर्भर हो गयी हैं, कुछ ने आगे भी नर्सिंग, रेडियोग्राफी व औप्टोमेट्री का कोर्स कर लिया है।

अपने परिवार तथा सेवा बस्तियों के अपने समाज के सम्पूर्ण स्वास्थ्य की जिम्मेदारी लेकर आज ये सचमुच सरकार के कौशल विकास एवं महिला व बाल कल्याण के कार्यक्रम को आगे बढ़ाने मे सक्षम हैं । हमें इस शक्ति का उत्साह बढाने और ऐसी अनेकों जरूरतमंदों के साथ अपने प्रयास साझा करने की जरूरत है।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Intermingling India in public interest(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

अजित पवार के हैं ये बोल, अब 50 लाख में नगर सेवक खरीदना मुश्किलभारत-म्यांमार की सयुंक्त प्रेसवार्ता में बोले पीएम, म्यांमार के साथ मजबूती से खड़ा है भारत
यह भी देखें

संबंधित ख़बरें

जनमत

पूर्ण पोल देखें »