PreviousNext

आइएएस अशोक खेमका का फिर तबादला

Publish Date:Thu, 04 Apr 2013 04:45 PM (IST) | Updated Date:Thu, 04 Apr 2013 07:46 PM (IST)
आइएएस अशोक खेमका का फिर तबादला

चंडीगढ़ [जागरण ब्यूरो]। संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा और डीएलएफ के बीच जमीन सौदे को रद कर चर्चा में आए हरियाणा के वरिष्ठ आइएएस अशोक खेमका का एक बार फिर तबादला कर दिया गया। उन्हें हरियाणा बीज विकास निगम के प्रबंध निदेशक के पद से हटाकर अभिलेखाकार विभाग में सचिव बनाया गया है। पिछले छह महीने के भीतर यह उनका दूसरा और एक साल में चौथा तबादला है। 47 वर्षीय खेमका को अपने 21 साल के प्रशासनिक कॅरियर में 44वीं बार तबादले का सामना करना पड़ा है।

गौरतलब है कि जर्मन कंपनी से दवा खरीद के मुद्दे पर अशोक खेमका ने बीज विकास निगम के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव रोशन लाल पर अनियमितता के आरोप लगाए थे। उन्होंने इस कीटनाशक दवा पर कई सवाल खड़े किए, जिसको कृषि विभाग ने नकार दिया था। खेमका को निगम के कर्मचारियों से भी जूझना पड़ा। कर्मचारी संगठन ने उनकी कार्यशैली के खिलाफ पांच अप्रैल को धरना देने का एलान किया था।

खेमका के तबादले से खुश कर्मचारियों ने लड्डू बांटें। इसके पहले वाड्रा विवाद के चलते उन्हें भूमि चकबंदी विभाग के महानिदेशक से हटाकर बीज विकास निगम का प्रबंध निदेशक बना दिया गया था। खेमका के आम आदमी पार्टी [आप] के संयोजक अरविंद केजरीवाल से भी अच्छे संबंध बताए जाते हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:IAS officer Ashok Khemka transferred again(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

भाजपा विधायक अरविंद पांडेय को जेलझारखंड में नक्सली हमला, पांच जवान शहीद
यह भी देखें

अपनी प्रतिक्रिया दें

अपनी भाषा चुनें
English Hindi


Characters remaining

लॉग इन करें

निम्न जानकारी पूर्ण करें

Name:


Email:


Captcha:
+ =


 

  • akhilesh | Updated Date:08 Apr 2013, 10:40:00 AM

    he is an IAS and will remain so for all his lifelong some thing which a politician can never achieve. honesty pays, some day he will win although he is winner of the people`s heart for the time being, with the inevitable change in the system/gov.(state/centre). truth has nothing to fear about although path is sometimes full of thorns.

  • ASHWANI BIGOPURIA | Updated Date:06 Apr 2013, 03:22:14 PM

    we are support u

यह भी देखें
Close