PreviousNext

66 वस्तुओं व सेवाओं पर कम हुई जीएसटी की दर: अरुण जेटली

Publish Date:Mon, 12 Jun 2017 03:24 AM (IST) | Updated Date:Mon, 12 Jun 2017 03:24 AM (IST)
66 वस्तुओं व सेवाओं पर कम हुई जीएसटी की दर: अरुण जेटली66 वस्तुओं व सेवाओं पर कम हुई जीएसटी की दर: अरुण जेटली
स्कूल बैग, इंसुलिन, मूवी टिकट, अगरबत्ती और अचार-मुरब्बा सहित 66 वस्तुएं प्रस्तावित जीएसटी लागू होने पर सस्ती हो सकती हैं।

हरिकिशन शर्मा, नई दिल्ली। स्कूल बैग, इंसुलिन, मूवी टिकट, अगरबत्ती और अचार-मुरब्बा सहित 66 वस्तुएं प्रस्तावित जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) लागू होने पर सस्ती हो सकती हैं। जीएसटी काउंसिल ने रविवार को अपनी 16वीं बैठक में इन वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी की दर में कमी करने का फैसला किया। काउंसिल के इस कदम से आम लोगों के उपयोग की वस्तुओं पर टैक्स का बोझ कम होगा। काउंसिल ने जीएसटी कंपोजीशन स्कीम के तहत सालाना कारोबार की प्रस्तावित सीमा 50 लाख को बढ़ाकर 75 लाख रुपये करने का फैसला भी किया है। इससे छोटे व मध्यम कारोबारियों और रेस्तरां चलाने वालों को बड़ी राहत मिलेगी।

 जीएसटी काउंसिल के अध्यक्ष केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बैठक में हुए फैसलों की जानकारी देते हुए कहा कि राज्यों और उद्योग जगत सहित विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिनिधियों ने 133 वस्तुओं व सेवाओं पर जीएसटी की प्रस्तावित दरों की समीक्षा करने का आग्रह किया था। इसमें से 66 वस्तुओं व सेवाओं पर प्रस्तावित दरों में संशोधन किया गया है। मसलन, स्कूल बैग पर पहले 28 प्रतिशत जीएसटी का प्रस्ताव था। इसे अब घटाकर 18 प्रतिशत किया गया है।

 'दैनिक जागरण' ने 25 मई को खबर दी थी कि जीएसटी की प्रस्तावित दरों से स्कूल बैग महंगा हो जाएगा। इस बैग पर फिलहाल 24.1 प्रतिशत टैक्स लगता है। ऐसे में जीएसटी लागू होने पर स्कूल बैग महंगे होने के आसार थे। काउंसिल ने भी माना कि यह जन उपयोग की वस्तु है, इसलिए इस पर प्रस्तावित दर कम की जानी चाहिए। 100 रुपये से कम मूल्य वाले मूवी टिकट पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगेगा, जबकि पहले यह 28 प्रतिशत प्रस्तावित था।

 हालांकि 100 रुपये से अधिक मूल्य के मूवी टिकट पर 28 प्रतिशत जीएसटी ही लगेगा। फिल्म उद्योग ने इस संबंध में चिंता प्रकट की थी। इसके बाद यह बदलाव किया गया है। इसी तरह काजू पर भी जीएसटी की प्रस्तावित दर को 12 से घटाकर पांच प्रतिशत कर दिया गया है। पैकेज्ड फूड जैसे अचार, मुरब्बा और सॉस पर भी जीएसटी की प्रस्तावित दर घटाकर 12 प्रतिशत की गई है। वहीं कंप्यूटर प्रिंटर पर भी पूर्व में प्रस्तावित दर को घटाकर अब 18 प्रतिशत और बच्चों की ड्रॉइंग बुक पर 12 प्रतिशत से घटाकर शून्य कर दिया है। शुगर मरीजों को राहत देते हुए इंसुलिन पर भी जीएसटी की दर 12 से घटाकर पांच प्रतिशत कर दी गई है। इसी तरह अगरबत्ती पर भी जीएसटी पांच प्रतिशत रखने का फैसला किया गया है। काजल पर जीएसटी की दर 28 से घटाकर 18 प्रतिशत कर दी गयी है। डेंटल वैक्स पर भी जीएसटी की प्रस्तावित दर 28 से घटाकर 18 प्रतिशत कर दी गई है।

 छोटे कारोबारियों को बड़ी राहत

जीएसटी काउंसिल ने लघु और मध्यम उद्यमियों को बड़ी राहत देते हुए कंपोजीशन स्कीम की सीमा बढ़ाकर सालाना 75 लाख रुपये का फैसला किया है। अब तक यह सीमा 50 लाख रुपये प्रस्तावित थी। इसका मतलब यह है कि 75 लाख रुपये तक का कारोबार करने वाले व्यापारियों को मात्र एक प्रतिशत जीएसटी देना होगा। जबकि मैन्यूफैक्चरिंग यूनिटों को दो प्रतिशत और रेस्तरां को पांच फीसद जीएसटी देना होगा। इस तरह सालाना 20 लाख रुपये तक के कारोबार को जीएसटी से पूरी तरह छूट प्राप्त है। वहीं, 75 लाख रुपये तक का कारोबार करने वाले व्यापारी कंपोजीशन स्कीम का लाभ ले सकेंगे।

 ज्वैलरी व टेक्सटाइल उद्योग को सौगात

सरकार ने रोजगार देने वाले टेक्सटाइल, डायमंड कटिंग एंड पॉलिशिंग और ज्वैलरी उद्योग को जॉब वर्क सेवाओं पर प्रस्तावित जीएसटी की दरों में कटौती कर बड़ी राहत दी है। इन दोनों क्षेत्रों में काफी काम जॉब वर्क के रूप में ही होता है। जीएसटी की काउंसिल की श्रीनगर में हुई बैठक में जॉब वर्क सेवाओं पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगाने का फैसला किया गया था। अब इसे घटाकर पांच प्रतिशत कर दिया गया है। दूसरी खास बात यह है कि जीएसटी जमा करने की जिम्मेदारी जॉब वर्क करने वाले की नहीं होगी, बल्कि मैन्यूफैक्चरिंग करने वाली यूनिट को रिवर्स चार्ज के आधार पर इसका भुगतान करना होगा। पांच प्रतिशत का यह जीएसटी जॉब वर्क की सेवा के रूप में वसूले गए चार्ज पर लगेगा। इससे इस क्षेत्र में नौकरियां बढ़ेंगी, बल्कि जॉब वर्क का काम करने वाले मजदूरों को भी राहत मिलेगी।

 काउंसिल की अगली बैठक 18 जून को

काउंसिल की अगली बैठक अब 18 जून को होगी। इसमें लॉटरी पर प्रस्तावित टैक्स की दरें तथा एंटी प्रॉफिटियरिंग क्लॉज यानी मुनाफाखोरी रोकने संबंधी अनुच्छेद के बारे में भी चर्चा होगी। साथ ही ई-वे बिल को लेकर भी विचार-विमर्श होगा।

यह भी पढें: सोमवार को कर्नाटक का दौरा करेंगे राहुल गांधी

यह भी पढें: कृषि उपकरण निर्माताओं ने जानी जीएसटी की प्रणाली

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:GST rates reduced on 66 commodities and services says Arun Jaitley(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

अर्थव्यवस्था की क्षति के लिए 10.52 लाख फर्जी पैन कार्ड कम नहीं: सुप्रीम कोर्टश्रीनगर में आतंकियों के ग्रेनेड हमले में चार सुरक्षाकर्मी घायल
यह भी देखें