PreviousNext

केन्द्र ने जल्लीकट्टू की अधिसूचना वापस लेने की मांगी अनुमति

Publish Date:Fri, 27 Jan 2017 09:16 PM (IST) | Updated Date:Sat, 28 Jan 2017 03:08 AM (IST)
केन्द्र ने जल्लीकट्टू की अधिसूचना वापस लेने की मांगी अनुमतिकेन्द्र ने जल्लीकट्टू की अधिसूचना वापस लेने की मांगी अनुमति
कोर्ट सभी मामलों पर एक साथ मंगलवार 31 जनवरी को सुनवाई करेगा।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने जल्लीकट्टू की अनुमति देने वाली अपनी गत वर्ष जनवरी की अधिसूचना वापस लेने की सुप्रीमकोर्ट से इजाजत मांगी है। केन्द्र ने इस बावत कोर्ट में अर्जी दाखिल कर दी है। उधर नये कानून को चुनौती देने के खिलाफ कुछ जल्लीकट्टू समर्थक भी सुप्रीमकोर्ट पहुंचे हैं। कोर्ट सभी मामलों पर एक साथ मंगलवार 31 जनवरी को सुनवाई करेगा।

शुक्रवार को अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष पेश होकर कहा कि केन्द्र सरकार ने जल्लीकट्टू की इजाजत देने वाली गत वर्ष जनवरी की अधिसूचना वापस लेने के लिए कोर्ट में अर्जी दाखिल कर दी है।

यह भी पढ़ें: ऊर्जा सुरक्षा के लिए यूएई की पहल साबित होगी गेम चेंजर

तभी कुछ जल्लीकटटू समर्थकों के वकील ने तमिलनाडु के नये कानून को चुनौती देने वाली एनीमल वेलफेयर बोर्ड की याचिका पर सवाल उठाया। उनका कहना था कि बोर्ड ने याचिका दाखिल करने की इजाजत नहीं दी है वकील ने अपनी तरफ से यह याचिका दाखिल की है। कोर्ट ने दलीलें सुनकर कहा कि सभी मामलों पर एक साथ 31 जनवरी को सुनवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने किसान आत्महत्या को माना संवेदनशील मुद्दा, कहा- RBI तलाशे वजह

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Centre moves Supreme Court seeking to withdraw 2016 notification allowing Jallikattu(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

वित्त मंत्री अरुण जेटली के संसदीय सहायक से लूटपाटनकद रहित लेन-देन के लिए आधार भुगतान सेवा शुरू करेगी सरकार
यह भी देखें

जनमत

पूर्ण पोल देखें »