PreviousNext

UP: शपथ ग्रहण करने से पहले ही BJP सरकार ने शुरू किया कार्य, 2019 है लक्ष्य

Publish Date:Sat, 18 Mar 2017 10:54 AM (IST) | Updated Date:Sat, 18 Mar 2017 02:56 PM (IST)
UP: शपथ ग्रहण करने से पहले ही BJP सरकार ने शुरू किया कार्य, 2019 है लक्ष्यUP: शपथ ग्रहण करने से पहले ही BJP सरकार ने शुरू किया कार्य, 2019 है लक्ष्य
उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री ने भले ही शपथ ना ली हो, लेकिन लखनऊ से भाजपा सरकार ने काम करना शुरू कर दिया है।

नई दिल्ली (जेएनएन)। भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में बनने वाली यूपी सरकार ने अभी कार्यभार भी ग्रहण नहीं किया है, लेकिन भाजपा सरकार ने पहले से ही कार्य करना शुरू कर दिया है। राज्य के शीर्ष ब्यूरोक्रेट्स तथा पुलिस अधिकारी जानते हैं कि 2019 के मध्य में आम चुनाव होने हैं और इसी को ध्यान में रखकर वो योजनाओं का खाका खींच रहे हैं तथा उनकी समीक्षा कर रहे हैं। 

सबसे महत्वपूर्ण, समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी शासन के 15 वर्षों के प्रशासनिक तौर- तरीकों का मूल्यांकन किया जा रहा है। अंग्रेजी अखबार इकनोमिक टाइम्स के अनुसार, पीएमओं के शीर्ष ब्यूरोक्रेट नृपेन्द्र मिश्रा और कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा दोनों ही यूपी कैडर से आते हैं, जिसका सीधा मतलब है कि दोनों को केंद्रीय स्तर पर राज्य के प्रशासन की गहरी समझ है।
भाजपा के घोषणा पत्र का गहनता से अध्ययन कर रहे हैं ब्यूरोक्रेट्स
यूपी के वरिष्ठ अधिकारी गहनता से भाजपा के चुनावी घोषणापत्र का अध्ययन कर रहे हैं और यह जानने की कोशिश कर रहै हैं कि किस तरह से 30 पेज के घोषणा पत्र की घोषणाओं को प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाए। ब्यूरोक्रेट्स और अधिकारी जानते हैं कि उनसे सरकार और जनता को क्या उम्मीदे हैं।
एक अधिकारी ने ईटी से बात करते हुए कहा, ' हमारे पास यूपी को बदलने के लिए पांच साल का समय नहीं है। हमारे पास अभी केवल दो साल हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान हमारे प्रदर्शन का स्कैन होगा....उम्मीदें बहुत बड़ी हैं।  इसलिए, यह उत्तर प्रदेश के लिए एक त्वरित विकास मॉडल होगा।' अधिकारी ने बताया, कानून-व्यवस्था, 24 घंटे की बिजली आपूर्ति, कत्लखानों का बंद करना, कृषि ऋण छूट और गन्ना की बकाया राशि का भुगतान आदि तत्कालिक प्राथमिकताएं हैं। इस बारे में राज्य के अधिकारियों को जानकारी दे दी गयी है। 
मुख्य सचिव ने सभी विभागों को रिपोर्ट्स तैयार रखने का दिया आदेश
लखनऊ में यूपी के मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने पहले ही विभागों को निर्देश दे दिया है कि वे अपनी रिपोर्ट्स तैयार रखें। भटनागर ने बताया, 'जैसा कि नई सरकार जल्द ही कार्यभार संभालने वाली है, मैंने सभी विभागों को निर्देश दिया है कि वे अपनी मुख्य योजनाओं की प्रगति रिपोर्ट तैयार रखें। हमने नई सरकार के लिए एक नई बुकलेट तैयार रखी है। नई सरकार द्वारा जो भी दिशा-निर्देश मिलेंगे, हम उनका पालन करेंगे।'
ब्यूरोक्रेट्स चुनाव के दौरान कत्लखाने बंद किए जाने जैसे चुनावी वादों और इनसे रोजगार पर पढ़ने वाले असर का भी गहनता से विश्लेषण कर रहे हैं। लेकिन उन्हें इस तरह के वादों की महत्वता का भी अंदाजा है। ऊर्जा मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) की एक टीम लखऩऊ में है और पीएम मोदी के सभी को 24 घंटे बिजली देने के चुनावी वादे को पूरा करने के लिए बैठकें कर रही हैं। 
24 घंटे सभी को बिजली देना भी सरकार की प्राथमिकता
उत्तर प्रदेश एकमात्र ऐसा राज्य है, जिसने अभी तक परियोजना पर हस्ताक्षर नहीं किए है। चुनाव प्रचार के दौरान बिजली मंत्री पीयूष गोयल द्वारा बार-बार इस मुद्दे का उल्लेख भी किया गया था। बिजली मंत्री ने 15 मार्च को दिल्ली से एक नोटिस लखनऊ को जारी किया था जिसमें इस बात का उल्लेख था कि कि यूपी के ऊर्जा सचिव से इस बारे "चर्चा" हुई थी। जिससे साफ संकेत मिलता है कि केंद्र 2019 तक सभी को बिजली देने के अपने लक्ष्य को लेकर कितना गंभीर है।
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कानून-व्यवस्था सबसे बड़ा और प्राथमिक मुद्दा है। सभी अधिकारी जानते हैं कि भाजपा जनता की सुरक्षा को लेकर एक संदेश देना चाहती है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि रेप के आरोपी मंत्री गायत्री प्रजापति को गिरफ्तार कर एक महीने के लिए पुलिस कस्टडी में भेजना भी पुलिस के नए संकल्प का ही संकेत था। 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:BJP government starts work in Lucknow even before swearing in(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

पेरिस के ऑरली एयरपोर्ट पर गोलीबारी, एक की मौत, पूरा इलाका सीलये होंगी उत्तराखंड के 8वें मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत की प्रमुख चुनौतियां
यह भी देखें