PreviousNext

गुटखा पर 204 तो खैनी-जर्दा पर लगेगा 160 प्रतिशत सैस

Publish Date:Fri, 19 May 2017 07:30 PM (IST) | Updated Date:Fri, 19 May 2017 07:30 PM (IST)
गुटखा पर 204 तो खैनी-जर्दा पर लगेगा 160 प्रतिशत सैसगुटखा पर 204 तो खैनी-जर्दा पर लगेगा 160 प्रतिशत सैस
केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में जीएसटी काउंसिल ने सेवा और वस्तुवार जीएसटी और सैस की दरों को अंतिम रूप दे दिया है।

नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। वस्तु एवं सेवा कर एक जुलाई 2017 से लागू होने के बाद आम लोगों के रोजमर्रा इस्तेमाल की चीजें भले ही सस्ती हो जाएं लेकिन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक तंबाकू उत्पादों पर टैक्स का बोझ कम नहीं होगा। गुटखा पर जीएसटी की उच्चतम 28 प्रतिशत दर के अतिरिक्त 204 प्रतिशत सैस भी लगेगा। वहीं खैनी और जर्दा पर भी भारी भरकम 160 प्रतिशत सैस लगेगा। इसी तरह प्राइवेट विमानों और 350 सीसी से अधिक क्षमता की मोटरसाइकिलों पर भी जीएसटी के अलावा तीन प्रतिशत सैस भी लगेगा। हालांकि बीड़ी पर जीएसटी कितना लगेगा इस पर अभी फैसला नहीं हुआ है।

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में जीएसटी काउंसिल ने सेवा और वस्तुवार जीएसटी और सैस की दरों को अंतिम रूप दे दिया है। जीएसटी लागू होने पर राज्यों को होने वाली राजस्व क्षति की भरपाई के लिए यह सैस लगेगा। इस सैस से जो राशि एकत्रित होगी उसका इस्तेमाल राज्यों को राजस्व हानि की भरपाई के लिए किया जाएगा।

तंबाकू उत्पादों पर कर बोझ बरकरार रखते हुए काउंसिल ने सिगरेट पर जीएसटी की उच्चतम दर के अलावा 290 प्रतिशत तक सैस लगाने का फैसला किया है। हालांकि सिगरेट पर सैस की दर लंबाई और फिल्टर के आधार पर तय होगी। हालांकि बीड़ी पर जीएसटी कितना लगेगा और इस पर सैस लगेगा या नहीं, इस बारे में अभी कोई फैसला नहीं हुआ है। माना जा रहा है कि जीएसटी काउंसिल 3 जून को दिल्ली में होने वाली बैठक में इस बारे में फैसला करेगी। बीड़ी पर जीएसटी लगाने के संबंध में राज्यों के बीच में आपस में मतभेद हैं। बीड़ी के अलावा सोना व चांदी सहित करीब आधा दर्जन चीजें हैं जिन पर जीएसटी की दर अभी तय नहीं हुई हैं।

काउंसिल ने मोटर वाहनों पर भी जीएसटी के साथ-साथ सैस लगाने का फैसला किया है। छोटी कारों पर एक प्रतिशत, मध्यम श्रेणी की कारों पर तीन प्रतिशत और एसयूवी पर 15 प्रतिशत सैस लगेगा। इसके अलावा निजी विमानों, लग्जरी नौकायान और 350 सीसी से अधिक की क्षमता की मोटरसाइकिलों पर भी तीन प्रतिशत सैस लगेगा। सरकार ने कोयला पर जीएसटी की दर पांच प्रतिशत रखी है लेकिन इस पर अलग से 400 रुपये प्रति टन के हिसाब से सैस भी लगेगा।

काउंसिल ने हाइब्रिड मोटर वाहनों और हाइड्रोजन वाहनों पर भी 15 प्रतिशत सैस लगाने का फैसला किया है। इसके अलावा शीतल पेय पर भी 12 प्रतिशत की दर से सैस लगाने का फैसला किया गया है। कुल मिलाकर तंबाकू उत्पादों और मोटर वाहनों सहित करीब चार दर्जन अलग-अलग उत्पाद हैं जिन पर जीएसटी के साथ-साथ सैस लगेगा। इस सैस से जमा होने वाली राशि का इस्तेमाल केंद्र सरकार राज्यों को होने वाली राजस्व क्षति की भरपाई के लिए करेगी।

यह भी पढ़ें: सेवाओं पर तय हुईं दरें, जीएसटी के दायरे से बाहर रहेंगी स्वास्थ्य एवं शिक्षा सेवाएं

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:204 percent cess will be take on gutkha(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

गोवा: पुराना पुल ढहने से तीन की मौत, रेस्क्यू ऑपरेशन जारीसुप्रीम कोर्ट ने ठुकराई जस्टिस कर्नन की रिट याचिका
यह भी देखें