साहित्य

कहानी: दोपहर का भोजन

Posted on:Fri, 03 Mar 2017 02:41 PM (IST)
        

अचानक उसे मालूम हुआ कि बहुत देर से उसे प्यास नहीं लगी हैं। वह मतवाले की तरह उठी ओर गगरे से लोटा-भर पानी लेकर गट-गट चढ़ा गई।और पढ़ें »

लघुकथा: ट्यूशनखोर

Posted on:Mon, 27 Feb 2017 01:44 PM (IST)
        

ऐसा नहीं है कि उसे पैसे की कोई ज्यादा कमी हो। उसके पिताजी की मृत्यु भले ही 40 की उम्र में हो गई हो लेकिन वो उसके लिए एक अदद मकान और कुछ जमा पूंजी भी छ... और पढ़ें »

टूटे पुल से

Posted on:Mon, 27 Feb 2017 01:40 PM (IST)
        

सेमल के फूल में अब तो उड़ती हुई रुई सीऔर पढ़ें »

काव्यात्मक खामोशी के वाचाल कवि

Posted on:Mon, 27 Feb 2017 01:33 PM (IST)
        

वह बाहर से खामोश और भीतर से वाचाल किस्म के कवि हैं। उन्हें सुनने के लिए पास जाना जरूरी। व्यक्तित्व की दहलीज पर खामोशी की महीन झालरें लटकी हुईं दिखेंगी... और पढ़ें »

उर्दू भी हमारी हिंदी भी हमारी!

Posted on:Mon, 27 Feb 2017 01:16 PM (IST)
        

एक समय जब न तो उर्दू थी और न ही हिंदी थी तो उस बोली को ‘हिंदवी’ कहा जाता था। इसे फिर ‘रेख्ता’ का नाम भी दिया गया।और पढ़ें »

हिंदी को बनाया मन की भाषा

Posted on:Sat, 25 Feb 2017 11:58 AM (IST)
        

शहर के पालम विहार में रहने वाली लेखिका चंद्रकांता आधुनिक महिला साहित्यकारों की फेहरिस्त में एक जाना पहचाना नाम है।और पढ़ें »

पारखी नजर और गहरी संवेदना की पूंजी है साहित्य

Posted on:Sat, 25 Feb 2017 11:44 AM (IST)
        

उनकी कहानियों में स्त्री-पुरुष के संबंधों को प्रमुखता दी जाती है। उनके साहित्य में मुंशी प्रेमचंद्र के साहित्य की तरह ही पात्रों के स्वर सुनाई देते है... और पढ़ें »

लघुकथा: संघर्ष के बीज

Posted on:Sat, 21 Jan 2017 04:18 PM (IST)
        

एक दिन किसान दुखी होकर मंदिर में जा पहुंचा और भगवान की मूर्ति के आगे खड़ा हो कर कहने लगा भगवान बेशक आप परमात्मा है लेकिन फिर भी लगता है आपको खेती बाड़... और पढ़ें »

लघुकथा: स्वाद की छलांग

Posted on:Mon, 20 Feb 2017 03:44 PM (IST)
        

एक कोने में बैठा नवविवाहित युगल समोसे देखकर खुश तो हुआ पर तभी पत्नी थोड़ा मुंह बिचकाती हुई बोली, ‘मैं तो समोसा नहीं खाने वाली! और पढ़ें »

कबीराना अंदाज की कविताए

Posted on:Mon, 20 Feb 2017 03:25 PM (IST)
        

यह प्रतिवाद उन्हें संघर्ष के संकल्प की ओर ले जाता है, तो कहीं हताशा और निराशा की ओर, फिर भी उनकी आस्था डगमगाती नहीं है। यह जनपक्षरता ही उनकी कविता की ... और पढ़ें »

पापा का कोट

Posted on:Mon, 20 Feb 2017 03:38 PM (IST)
        

मुझे वो खुद अब एक कोट की तरह दिखते हैंऔर पढ़ें »

आर यू इंडियन ला

Posted on:Mon, 20 Feb 2017 02:54 PM (IST)
        

अपने देश में भले ही अपने पड़ोसियों से कोई मतलब न रखते हों पर विदेश में जहां कोई अपने वतन का दिखता है, हम जरूर बात करते हैं।और पढ़ें »

संस्कार में मिला लेखन

Posted on:Sun, 19 Feb 2017 02:47 PM (IST)
        

हिंदी में हर विधा पर कलम चलाते हैं हरीश नवल। साहित्य के कई बड़े सम्मान और चर्चित किताबें दर्ज हैं इनके खाते में। व्यंग्य के इस वरिष्ठ हस्ताक्षर से लालज... और पढ़ें »

क्षमा मांगने की क्षमता

Posted on:Sun, 19 Feb 2017 03:11 PM (IST)
        

क्षमा का जादू किताब की समीक्षा- और पढ़ें »

सबसे बड़ा त्योहार

Posted on:Sun, 19 Feb 2017 02:21 PM (IST)
        

उस युवती ने रक्तदान कर अनजान युवक की बचाई जान। यह प्रयास उसके लिए बना जीवन का सबसे बड़ा त्योहार...और पढ़ें »

इंसानियत की रस्सी

Posted on:Sun, 19 Feb 2017 02:12 PM (IST)
        

अनजान जगह में फंसे व्यक्ति की जब ट्रक ड्राइवर ने सहायता की, तो उसको समझ में आया कि इंसानियत से बड़ी नहीं कोई दूसरी चीज... और पढ़ें »

नमक का कर्ज

Posted on:Sat, 18 Feb 2017 02:05 PM (IST)
        

कटोरे में हरे-हरे अंगूर। आहा! कितने मीठे होंगे। यह देखते ही बंटी खरगोश के मुंह में पानी आ गया। अंगूर ऊंची डाइनिंग टेबल पर रखे थे।और पढ़ें »

दिल्ली की ऐतिहासिक इमारतों का दस्तावेज है यह किताब

Posted on:Sat, 18 Feb 2017 02:19 PM (IST)
        

‘आसार-अल-सनादीद’ में एक व्यापक प्रस्तावना, उसके बाद चार अध्यायों में बंटे मुख्य पाठ के साथ नमूने के तौर पर 100 से अधिक चित्रांकन हैं। इतना ही नहीं, दि... और पढ़ें »

प्रणय दिवस पर: रूठना-हंसना बहाना था

Posted on:Fri, 17 Feb 2017 11:35 AM (IST)
        

तुम्हारे इश्क के दरिया में हमको डूब जाना था।।और पढ़ें »

लघुकथा: हैसियत

Posted on:Fri, 17 Feb 2017 11:11 AM (IST)
        

विनोद कुमार ने शॉलों और चद्दरों की क्वालिटी को देखते हुए कहा, ‘सत्यनारायण भाई इतनी हैवी नहीं कोई हल्की सी शॉल या चद्दर दिखलाइए।और पढ़ें »

यह भी देखें