PreviousNext

झारखंड में अब गाय-भैंस का भी होगा यूनिक नंबर

Publish Date:Thu, 14 Jan 2016 02:01 AM (IST) | Updated Date:Thu, 14 Jan 2016 02:16 AM (IST)
झारखंड में अब गाय-भैंस का भी होगा यूनिक नंबर
इन्सानों की तर्ज पर अब गाय व भैसों को भी विशिष्ट पहचान पत्र के दायरे में लाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। राज्य के सभी गोवंश पशुओं को इस दायरे में लाते हुए उन्हें यूआइडी की तर्ज प

राज्य ब्यूरो, रांची। इन्सानों की तर्ज पर अब गाय व भैसों को भी विशिष्ट पहचान पत्र के दायरे में लाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। राज्य के सभी गोवंश पशुओं को इस दायरे में लाते हुए उन्हें यूआइडी की तर्ज पर न सिर्फ 12 अंकों की खास पहचान संख्या दी जाएगी बल्कि उनसे जुड़ी तमाम जानकारी को सहेजा जाएगा। भारत सरकार के निर्देश पर देश भर में शुरू इस योजना के तहत झारखंड में फिलहाल पायलट प्रोजेक्ट के तहत आठ जिलों में काम शुरू किया गया है।

भारत सरकार की मंशा इस योजना के माध्यम से देशभर की गाय व भैसों के ब्योरे के संकलन की है, ताकि आवश्यकता पडऩे पर देश के किसी भी गोवंशीय पशु की जानकारी बस माउस की एक क्लिक से हासिल की जाए सके। गो तस्करी में लिप्त लोगों पर भी शिकंजा कसने में यह तंत्र कारगर साबित होगा।

देश भर में नेशनल प्रोग्राम फॉर बोवाइन ब्रीडिंग के तहत पशु चिह्नितीकरण योजना पर काम शुरू किया गया है। एनडीडीबी के सहयोग से तैयार साफ्टवेयर में गाय व भैसों से जुड़े दस्तावेजों को सहेजा जाएगा। झारखंड में स्टेट इंप्लीमेंट एजेंसी (जेएसआइए) इस कार्य को अंजाम दे रही है।

जेएसआइए के मुख्य अनुदेशक डॉ. कृष्णकांत तिवारी ने बताया कि पशु चिह्नितीकरण योजना के तहत प्रत्येक गाय व भैंस का रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। इसमें पशु मालिक के नाम व स्थान के अलावा पशु की विशेषता तथा उसकी नस्ल से जुड़ी तमाम जानकारी जुटाई जाएगी। इस कार्य को चार वर्षों में अंजाम दिया जाएगा।

--------------

इन जिलों में शुरू होगी योजना

प्रथम चरण में आठ जिलों रांची, जमशेदपुर, हजारीबाग, बोकारो, धनबाद, देवघर, लोहरदगा और कोडरमा को शामिल किया गया है। चार वर्षीय इस योजना के द्वितीय व तृतीय चरण में अन्य सभी जिलों को शामिल किया जाएगा।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Unique number of cow-buffalo will also now in Jharkhand(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

अब गाय-भैंस का भी होगा यूनिक नंबर25 लाख के इनामी नक्सली की मुकदमा वापसी का प्रस्ताव
यह भी देखें