PreviousNext

चाहे हो तकरार बनाए रखें सम्मान

Publish Date:Sat, 15 Apr 2017 12:43 PM (IST) | Updated Date:Sat, 15 Apr 2017 12:52 PM (IST)
चाहे हो तकरार बनाए रखें सम्मानचाहे हो तकरार बनाए रखें सम्मान
जरूरी है कि ‘पूर्व साथी’ की निजता का ख्याल और सम्मान जिंदगीभर किया जाए यानी भले ही तकरार हो, लेकिन एक-दूसरे का सम्मान रहे बरकरार...

आपने अक्सर बहुत से सेलेब्रिटी के बारे में पढ़ा या सुना होगा कि वे भले ही अपनी जिंदगी में अलग-अलग राहों पर चल पड़े हों, मगर एक-दूसरे का हमेशा सम्मान करते हैं। हालांकि असल जिंदगी में ऐसा कम ही देखने को मिलता है। अक्सर ब्रेकअप के बाद युवा पूर्व साथी के साथ आम जिंदगी से लेकर सोशल मीडिया तक पर गलत व्यवहार करने लगते हैं। ऐसा करना ठीक नहीं। 

डिंपी तुमने अपनी फेसबुक वॉल चेक की है। क्यों क्या हुआ शीना दी? तुम्हारे दोस्त ने तुम्हें कुछ टैग किया है। तुम खुद ही देख लो। ‘ए रिलेशनशिप इज ओनली, मेड फॉर टू, बट समवन डोंट नो, हाऊ टू हैंडल।’ वॉल पर शोभित का ऐसा मैसेज देख डिंपी परेशान है, क्योंकि वह तो कभी शोभित से अलग होना ही नहीं चाहती थी। फिर सोशल मीडिया पर ऐसी पोस्ट का मतलब क्या है? डिंपी के हाथ-पांव तब और भी फूल गए, जब शोभित की पोस्ट पढ़कर कजिन्स, अंकल-आंटी, ऑफिस के कलीग्स समेत फेसबुक पर जुड़े अन्य तमाम लोग भी इनबॉक्स में उससे सवाल करने लगे।

हैलो आकाश, प्रमोशन मुबारक हो। शुक्रिया सिया और बताओ कैसी हो? मैं बहुत अच्छी हूं। कुछ नए प्रोजेक्ट्स
पर काम कर रही हूं। मेहनत करो, तुम्हें सफलता अवश्य मिलेगी। धन्यवाद आकाश। आकाश अलग होने के महीनों बीतने के बाद भी तुमने अपनी खुशी के मौके पर मुझे याद रखा, यह मेरे लिए बड़ी बात है। मुझे तो लगा था
कि ब्रेकअप होने के बाद तुम कभी मेरी शक्ल देखना भी पसंद नहीं करोगे। ऐसी बात नहीं है सिया। हमारा रिश्ता
टूटा है, लेकिन सम्मान तो अब भी बाकी है। पिछले ऑफिस के सभी सहकर्मी इस खुशी के मौके पर आए हैं और फिर तुम तो मेरी सीनियर रही हो। इस नाते मेरी कामयाबी के अवसर पर तुम्हारा उपस्थित होना मेरे लिए
खुशी की बात है।

रिश्ता खत्म पर सम्मान ताउम्र
अक्सर रिश्ता खत्म होने के बाद शोभित जैसे लोग पूर्व साथी का सम्मान करना भी भूल जाते हैं। दिल टूटने से वे इतने आहत हो जाते हैं कि किसी न किसी बहाने साथी को यह याद दिलाते रहते हैं कि इस रिश्ते के खत्म होने में उनके साथी की कितनी बड़ी गलती है। उन्होंने कभी कुछ गलत किया ही नहीं है। खुद को ठीक और साथी को गलत साबित करने के वे अलग-अलग तरह से प्रयास करते हैं, लेकिन ऐसा करते वक्त वे यह भूल जाते हैं कि उनके इस कदम से उनके पूर्व साथी को तकलीफ भी हो सकती है। उन्हें सबके सामने शर्मिंदा भी होना पड़ सकता है। हां, यह ठीक है कि एक रिश्ते का खत्म होना मुश्किल भरा वक्त है, लेकिन इस तरह से साथी के पीठ पीछे बात करने से क्या हासिल होगा? हालांकि इन सबके बीच में आकाश जैसे लोग भी हैं, जो ब्रेकअप होने के बावजूद न केवल साथी के प्रति सम्मान बरकरार रखते हैं, बल्कि अपनी हर छोटी-बड़ी खुशी के मौके पर उन्हें आमंत्रित भी करते हैं और उन्हें यह अहसास कराते हैं कि भले ही उनके बीच आज प्यार नहीं है, लेकिन उनके दिल में उनके प्रति बदले की कोई भावना नहीं है।

भावुक पलों का न बनाएं मजाक
एक रिलेशनशिप के दौरान दो लोग ‘एक होकर’ जिंदगी जीते हैं। एक साथ हंसते हैं, एक साथ रोते हैं और एक साथ भावुक होते हैं। कुछ अपनी कहते हैं तो कुछ साथी की सुनते हैं। इस दौरान वे कई ऐसी बातें साझा करते हैं, वे कभी नहीं चाहते कि इस बारे में किसी और शख्स को इनका पता चले, लेकिन जैसे ही वह रिश्ता खत्म होता है, उस दौरान कही-सुनी बातों या पलों के बारे में दूसरों को न केवलबताते हैं, बल्कि उसका मजाक भी बनाते हैं। सोनीपत में अशोका यूनिवर्सिटी में कार्यरत राइटिंग ट्यूटर टीना यादव कहती हैं कि एक रिश्ते से अलग होना किसी के लिए आसान नहीं होता है, लेकिन उससे भी ज्यादा तकलीफ तब होती है, जब आपको वे बातें किसी और से पता चलें, जो आपने किसी खास मौके पर किसी खास से कही थीं। तब दुख होने के साथ-साथ बहुत गुस्सा भी आता है। इसीलिए रिश्ता टूटने के बाद पूर्व साथी के निजी पलों और उस दौरान कही गई बातों का मजाक बनाने से बचना चाहिए।

दोस्तों से साझा करें अच्छी यादें
अक्सर ब्रेकअप होने के बाद लोग पूर्व साथी के कॉमन दोस्तों से साथी की बुराई करते हैं। वह साथी जो कल तक आपकी जिंदगी जीने की वजह था, आज उसे खुद को बर्बाद और नाकामयाब होने की वजह बताने लगते हैं, लेकिन ऐसा करने से केवल आपके साथी की छवि ही प्रभावित नहीं होती है, बल्कि आपकी नकारात्मकता भी
सामने आती है। एमेजोन कंपनी में स्पांसर एडवरटीजमेंट के पद पर कार्यरत सेबी शेख कहते हैं कि दिल टूटने के
बाद पूर्व साथी को दोषी ठहराने से पहले लोग यह भूल जाते हैं कि किसी भी रिश्ते में गलतियां एकतरफा नहींहोती हैं। ऐसे में अगर आप साथी के बारे में कुछ गलत कह रहे हैं तो सवाल तो आपके व्यक्तित्व पर भी उठेंगे। इसीलिए बुराइयां ढूंढ़ने से बेहतर है कि पूर्व साथी की किसी अच्छी बात को याद रखा जाए, क्योंकि कोई भी रिश्ता कितना भी कड़वा क्यों न हो, कुछ न कुछ अच्छी बातों की गुंजाइश हर रिश्ते में रहती है, जो आपके खुश होने और प्रेरणा देने के लिए काफी होती है। इसीलिए जब किसी दोस्त से मिलें तो पूर्व साथी की अच्छी बातों का जिक्र जरूर करें।

ऑफिस में भी रहें प्रोफेशनल
एक ऑफिस में दो प्यार करने वाले लोग जब अलग होते हैं, तो ऑफिस कलीग्स के सामने अपना दर्द बयां करते
हैं। पूर्व साथी की निजी जिंदगी के व्यवहार और उनके फैसले को प्रोफेशनल जिंदगी की कसौटी पर तोलकर ऑफिस के दोस्तों को बताते हैं, लेकिन इस आदत से उनके और पूर्व साथी दोनों की ही प्रोफेशनल छवि पर असर पड़ता है। दिल्ली की एक कंपनी में कार्यरत सॉफ्टवेयर डेवलपर रौनक माथुर कहते हैं कि अगर आपने अपनी जिंदगी में आगे बढ़ने का फैसला ले लिया है तो उस पर टिके रहें। बिना झिझके, कमजोर पड़े एक अच्छे प्रोफेशनल की तरह पूर्व साथी का सामना करें। अगर अभी तक आप अपने ब्रेकअप के दर्द से उबर नहीं सके हैं तब भी यह बात ऑफिस के किसी भी कलीग्स को पता न चलने दें। रिश्ता टूटने के कारण हो सकता है कि आप दोनों बहुत सारी तल्खियों से भरे हों। हो सकता है कि बहुत सी नाराजगी एक-दूसरे के लिए हो, लेकिन उनके खत्म होने के लिए वक्त का इंतजार करें। कभी भी ऑफिस कलीग्स से कुछ न कहें। दूसरों को अपने बारे में बातें करने का मौका न दें, बल्कि खुद को बहुत मजबूत तरीके से पेश करें।

सोशल मीडिया पर रहें सोशल
एक रिलेशनशिप में अलग होने के बाद अक्सर युवा सोशल मीडिया पर भी इसकी जमकर भड़ास निकालते हैं। साथी की फेसबुक वॉल पर जाकर उन्हें दोषी ठहराने के लिए टूटे दिल के बारे में दर्द भरी शायरी, कोट्स और मैसज पोस्ट करते हैं तो कभी इनबॉक्स में जाकर वक्त-बेवक्त उन्हें मैसेज करते हैं। उनके इस कदम से उनके पूर्व साथी को वर्चुअल दुनिया के तमाम दोस्तों के सामने शर्मिंदा होना पड़ता है। दिल्ली की कंपनी में टेक्निकल रिक्रूटर
पूर्णिमा यादव कहती हैं कि पूर्व साथी की एक गलत पोस्ट या मैसेज से न सिर्फ अपने रिश्तेदार या ऑफिस कलीग्स से नजरें चुरानी पड़ती हैं, बल्कि कभी-कभी घबराहट इतनी बढ़ जाती है कि युवा डिप्रेशन तक में चले जाते हैं। हालांकि एफबी पर प्राइवेसी विकल्प है, लेकिन आपको अंदाजा नहीं होता है कि पूर्व साथी कभी कोई ऐसा कदम भी उठा सकते हैं। इसीलिए यह जरूरी है कि रिश्ता खत्म होने के बाद सोशल मीडिया पर भी
सोशल रहा जाए।

कोसने से वापस नहीं मिलेगा प्यार
एरिका फर्नांडीज, अभिनेत्री
प्यार होता है तो होता है या फिर होता ही नहीं है। आप रिलेशनशिप बनाए रखने के लिए किसी को मजबूर नहीं कर सकते हैं। आप किसी को कोसकर या दीनहीन बनकर प्यार पा लेंगे तो यह मुमकिन नहीं है। ऐसा करके केवल आप साथी को परेशान ही करेंगे। इसलिए अलग होने के बाद पूर्व साथी को बुरा-भला कहकर जबरन अपने पास वापस बुलाने से अच्छा है कि उसके फैसले का सम्मान किया जाए।

 

पुरानी यादों से दूर जाना बेहतर
गुंजन उटरेजा, अभिनेता
वक्त रहते पुरानी यादों से बाहर निकलना बहुत जरूरी है। माना कि ये थोड़ा मुश्किल है, लेकिन ऐसा करने में ही आपकी भलाई है। अक्सर लोग दिल टूटने के बाद भी साथी को भूल नहीं पाते हैं। इसीलिए वे साथी से जुड़े रहने के लिए अलग-अलग तरह से उन्हें परेशान करते हैं, लेकिन वे शायद यह भूल जाते हैं कि ऐसा करने से वे केवल साथी का नुकसान ही नहीं कर रहे हैं, बल्कि खुद का भी नुकसान कर रहे हैं, क्योंकि जितना ज्यादा आप पुरानी यादों में जकड़े रहेंगे, उतना ही आप जिंदगी में खुद को पीछे धकेलते रहेंगे। इसीलिए इन यादों से दूर जाना ही बेहतर है।

प्यार नहीं तो दोस्ती सही
दर्शन कुमार, अभिनेता
ब्रेकअप के बाद पूर्व साथी में कमियां ढूंढ़ने के बजाय दोस्ती का रिश्ता कायम रखा जा सकता है। पूर्व साथी के अच्छे दोस्त बनकर अपने टूटे दिल के दर्द को बहुत हद तक कम कर सकते हैं। मुझे लगता है कि ब्रेकअप के बाद पूर्व साथी के साथ लोग दोस्ती रखना इसलिए पसंद नहीं करते, क्योंकि उन्हें लगता है कि साथी ने उनके साथ गलत किया है। ऐसे में वे साथी के दोस्त कैसे बन सकते हैं, लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि जिसके साथ आपने इतना लंबा वक्त गुजारा है, उससे बेहतर दोस्त कोई और हो ही नहीं सकता। मैंने अपनी निजी जिंदगी में कई लोगों को देखा है जो प्यार की डोर में तो नहीं बंध सके, लेकिन हां अच्छे दोस्त जरूर हैं। मैंने भी अपनी निजी जिंदगी में यही किया है।

-नंदिनी दुबे

यह भी पढ़ें : इन सरल उपायों से बरकरार रहेगा रिश्ते में प्यार और सम्मान 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Maintain the respect even if there is conflict in relationship(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

मानसिक तनाव से हैं परेशान तो एक बार ये वास्तु टिप्स भी आजमाकर देखेंसुरक्षा और अनूठापन देते ‘प्राइवेसी गेट’ व ‘हिडन डोर’
यह भी देखें

जनमत

पूर्ण पोल देखें »