PreviousNext

संशो--आगे के लिए : फिर 'शून्य' पर पहुचा पारा

Publish Date:Wed, 01 Feb 2012 11:01 PM (IST) | Updated Date:Wed, 01 Feb 2012 11:03 PM (IST)

रेवाड़ी, जागरण संवाद केंद्र : कुछ दिन के अंतराल के बाद दो दिन से न्यूनतम पारा गिरकर एक बार फिर शून्य पर पहुच गया है। हालाकि अधिकतम तापमान 21.5 डिग्री सेल्सियस होने के कारण दिन के समय गर्माहट का अहसास भी हो रहा है।

बुधवार को बावल स्थित क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र में न्यूनतम तापमान 0 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। हालाकि मंगलवार को अधिकतम तापमान 19.5 डिग्री सेल्सियस था, लेकिन बुधवार को अच्छी धूप खिलने से मंगलवार की तुलना में अधिकतम तापमान 2 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। दिन के समय पारा चढ़ने से ठड का अधिक अहसास नहीं हुआ। इससे पूर्व 10 जनवरी को भी जिले में न्यूनतम तापमान 0 डिग्री पर पहुच गया था, लेकिन तब अधिकतम तापमान 15.5 डिग्री सेल्सियस रहने के कारण लोगों को दिन में भी राहत नहीं मिली थी। ठड से बचने के लिए बड़ी संख्या में लोगों ने अलाव का सहारा लिया, लेकिन आसमान साफ रहने के कारण सूरज ने जल्द ही चमक बिखेरनी शुरू कर दी, जिससे बाजारों में भी रौनक रही। दूसरी ओर दिन के समय गर्माहट का अहसास किसानों की चिंता बढ़ा रहा है। किसानों का कहना है कि इससे उनकी फसल जल्दी पकाव की ओर बढ़ेगी तथा दाना कम वजन का तैयार होगा।

फसलों के लिए चिंताजनक है मौसम में बदलाव

कृषि उपनिदेशक एचएस बिश्नोई ने जागरण को बताया कि मौसम में आया बदलाव गेहू व सरसों के लिए नुकसानदायक है। उन्होंने कहा कि रात के समय ठड पड़ना नुकसानदायक नहीं है, बल्कि दिन के समय जिस तरह पारा एकाएक तेजी से बढ़ रहा है, उससे किसानों की ¨चता बढ़ना स्वाभाविक है। उन्होंने कहा कि एकाएक 15-16 डिग्री सेल्सियस से अधिकतम तापमान 20 से अधिक पहुचने से गेहू व सरसों के उत्पादन पर असर डालेगा।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
    Web Title:(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

    कमेंट करें

    कुष्ठ रोग का खतरा अभी भी कायमबिजली सर्कल को निजी हाथों में सौंपना गलत : सतीश
    यह भी देखें
    अपनी प्रतिक्रिया दें
      लॉग इन करें
    अपनी भाषा चुनें




    Characters remaining

    Captcha:

    + =


    आपकी प्रतिक्रिया

      मिलती जुलती

      यह भी देखें
      Close