PreviousNext

कर्ज का मर्ज

Publish Date:Mon, 20 Mar 2017 03:13 AM (IST) | Updated Date:Mon, 20 Mar 2017 03:18 AM (IST)
कर्ज का मर्जकर्ज का मर्ज
नई सरकार ने किसानों की कर्ज माफी के लिए गंभीरता दिखाई है। पंजाब का किसान कर्ज के मर्ज से बुरी तरह परेशान हो चुका है।

 नई सरकार ने मंत्रिमंडल की पहली ही बैठक में किसानों की कर्ज माफी के लिए गंभीरता दिखाई है। देखना यह है कि वह कितनी जल्दी इसे लागू कर पाती है।

पंजाब का किसान कर्ज के मर्ज से बुरी तरह परेशान हो चुका है। वह इसके बोझ तले इस कदर दब चुका है कि उसे अपनी जान देना सरल प्रतीत हो रहा है। यही कारण है कि लंबे समय से प्रदेश के किसान आत्महत्या का मार्ग चुन रहे हैं। रविवार को मानसा में भी एक किसान ने कर्ज से परेशान होकर जान दे दी। पंजाब न सिर्फ एक कृषि प्रधान प्रदेश है, अपितु यह हरित क्रांति का अगुआ भी रहा है। ऐसे प्रदेश के लिए यह स्थिति बेहद शर्मनाक है। विगत कई वर्षों से सरकारी नीतियों, मौसम की मार और महंगाई के कारण खेती करना घाटे का सौदा साबित हो रहा है। यह सर्वविदित है कि प्रदेश के अनेक किसान कर्ज लेकर खेती करते हैं और कई बार फसल का उचित मूल्य न मिलने पर अथवा फसल खराब हो जाने पर कर्ज चुका नहीं पाते। अंतत: उनपर इसका दबाव बढ़ता जाता है और इसकी परिणति एक दुखद अंत के रूप में सामने आती है। हैरत की बात यह है कि कृषि और किसानों की हालत सुधारने के लिए बातें तो बहुत होती हैं, लेकिन कोई ठोस हल सामने नहीं आता है। अब प्रदेश में नई सरकार ने मंत्रिमंडल की पहली ही बैठक में किसानों की कर्ज माफी के लिए गंभीरता दिखाई है। सरकार ने किसानों पर कृषि कर्ज का मूल्यांकन करने और समयबद्ध रूप में इस कर्ज को खत्म करने के तरीकों का पता लगाने के लिए विशेषज्ञों का दल बनाने का निर्णय लिया है। निस्संदेह इसका स्वागत किया जाना चाहिए, परंतु यह भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि यह प्रक्रिया शीघ्र पूरी हो ताकि किसानों को जल्द राहत मिल सके। इसके अतिरिक्त सरकार को मंडियों की स्थिति पर भी ध्यान देना होगा, क्योंकि अगले माह से गेहूं की फसल मंडियों में पहुंचने लगेगी। विपक्ष में रहते हुए वर्तमान सत्ताधारी दल हमेशा किसानों के मंडियों में परेशान होने के आरोप लगाता रहा है तो उम्मीद की जानी चाहिए कि वह इस बार ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं होने देगा, जिससे किसान परेशान हों। किसानों को भी संयम का परिचय देना होगा। जान दे देना किसी समस्या का हल नहीं होता। प्रदेश के किसानों ने पहले भी अपनी हिम्मत व साहस से हालात बदले हैं और यदि वे धैर्य रखते हैं तो इसमें कोई संदेह नहीं है कि वे मुसीबतों व कर्ज से पार पा लेंगे।

[ स्थानीय संपादकीय : पंजाब ]

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Treatment of loan(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

यह कैसा विकासअफस्पा पर न हो राजनीति
यह भी देखें