PreviousNextPreviousNext

सड़क व नालियों के निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल

Publish Date:Sat, 09 Nov 2013 10:10 PM (IST) | Updated Date:Sun, 10 Nov 2013 03:08 AM (IST)

जागरण संवाददाता, बाहरी दिल्ली : उत्तरी दिल्ली नगर निगम की ओर से रोहिणी के सेक्टर-16 व 17 में सड़क व नालियों का निर्माण कार्य चल रहा है। निर्माण कार्य पूरा होने से पहले ही वे धराशायी होने लगे हैं। स्थानीय लोगों का आरोप है कि अधिकारियों की मिलीभगत से ठेकेदार नालियों व सड़कों के निर्माण में सीमेंट का नाममात्र ही उपयोग कर रहे हैं। इसके चलते नालियां अभी से टूटने लगी हैं। स्थानीय लोगों ने इस बारे में क्षेत्रीय पार्षद से लेकर उपायुक्त रोहिणी क्षेत्र व विजिलेंस विभाग तक शिकायत की है, लेकिन निर्माण कार्य में सुधार के लिए अब तक संबंधित विभाग को कोई निर्देश जारी नहीं किया गया है।

नालियों में जमा रहता है पानी

लोगों का कहना है कि सेक्टर-16 व 17 में नाली बनाने से पहले संबंधित विभाग ने पानी की निकासी के लिए कोई स्तर तैयार नहीं किया। इसके चलते नाली में जमा रहता है, जबकि पहले की बनी नाली में पानी आसानी से निकल जाता था।

जलजनित बीमारी का खतरा

नाली में पानी जमा रहने से क्षेत्र में जलजनित बीमारी होने का खतरा पैदा हो गया है। लोग इससे चिंतित हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि क्षेत्र में सफाई व्यवस्था पहले ही चरमराई हुई है। बड़े नालों की सफाई कभी-कभार ही की जाती है।

सड़कों पर जमा रहता है कूड़े का ढेर

रोहिणी के सेक्टर-16 व 17 में बनी नालियों में सफाई की व्यवस्था भी पूरी तरह से चौपट है। नालियों के न केवल ढक्कन खुले हैं, बल्कि उनमें कूड़ा भी जमा हो गया है। लोगों का कहना है कि क्षेत्र में हफ्तों तक सफाई कर्मचारी नहीं आते। सड़कों पर भी कूडे़ के ढेर लगे रहते हैं।

निर्माण में रेत का इस्तेमाल ज्यादा

नालियों के निर्माण में सीमेंट कम, रेत का अधिक उपयोग किया जा रहा है। यही कारण है कि नालियां बनते ही टूटने लगी हैं। पार्षद से लेकर अधिकारियों को शिकायत की गई है, लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है।

-सुभाषचंद बंसल, स्थानीय निवासी।

जल्दबाजी में काम निपटा रहा विभाग

नई नालियों की हालत एक माह में ऐसी हो गई हैं जैसे लगता है कि वे एक साल पुरानी हों। विभाग जल्दबाजी में काम निपटा रहा है। अन्य सड़कों पर भी बडे़-बडे़ गड्ढे बन गए हैं।

-विजय दहिया, स्थानीय निवासी।

मानकों का उल्लंघन

निर्माण एजेंसी सही तरीके से काम नहीं कर रहा है। निर्माण कार्य में मानकों का उल्लंघन हो रहा है। इससे नालियों से पानी नहीं निकल पा रहा है। कई बार शिकायत की गई, लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।

-मोहनलाल, स्थानीय निवासी।

---------------------

निर्माण कार्य ठीक नहीं होने की शिकायत मिली थी। उस पर मैंने तुरंत कार्रवाई की और उसे उच्च अधिकारियों को बताया। यदि निर्माण कार्य में कोई लापरवाही बरती गई है तो पहले उसे ठीक किया जाएगा। ठेकेदार को तब तक पूरा भुगतान नहीं किया जाएगा, जब तक काम पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाता।

-प्रवेश वाही, निगम पार्षद

----------------------

क्षेत्र में ज्यादातर नालियां मोटर साइकिल चढ़ाने के दौरान टूट जाती हैं। इस पर लोग शिकायत करते हैं। विभाग की तरफ से अच्छा माल लगाकर नालियों का निर्माण किया जा रहा है। इसके बाद भी यदि कोई शिकायत मिलती है तो उसे तुरंत ठीक किया जाता है।

-एचडी भारद्वाज, कनिष्ठ अभियंता, नगर निगम।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए क्लिक करें m.jagran.com परया

कमेंट करें

Web Title:

(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

चुनाव आयोग पहुंची कांग्रेसबाल यौन शोषण के खिलाफ चेताया

 

अपनी भाषा चुनें
English Hindi
Characters remaining


लॉग इन करें

यानिम्न जानकारी पूर्ण करें

Word Verification:* Type the characters you see in the picture below

 

    यह भी देखें

    स्थानीय

      यह भी देखें
      Close
      सड़क निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल
      नालियों के निर्माण में घटिया ईटों का इस्तेमाल
      स्कूल निर्माण में घटिया सामग्री का इस्तेमाल