PreviousNext

जीएसटी के सप्लीमेंट्री और कंपनसेशन बिलों को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में मिली मंजूरी

Publish Date:Mon, 20 Mar 2017 11:19 AM (IST) | Updated Date:Mon, 20 Mar 2017 01:06 PM (IST)
जीएसटी के सप्लीमेंट्री और कंपनसेशन बिलों को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में मिली मंजूरीजीएसटी के सप्लीमेंट्री और कंपनसेशन बिलों को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में मिली मंजूरी
कैबिनेट मीटिंग में जीएसटी के सप्लीमेंट्री बिलों और कंपनसेशन बिल को मंजूरी दे दी गई है।

नई दिल्ली। लंबे समय से प्रतीक्षारत केंद्र सरकार के जीएसटी बिल को लागू करने के लिए रास्ता साफ होता जा रहा है। जानकारी के अनुसार सोमवार को दिल्ली में हो रही कैबिनेट मीटिंग में जीएसटी के सप्लीमेंट्री बिलों और कंपनसेशन बिल को मंजूरी मिल गई है। कैबिनेट की बैठक शुरू हो चुकी है और इसमें जीएसटी से जुड़े अन्य सहायक विधेयकों को मंजूरी दे दी गई है। कैबिनेट से मंजूरी के बाद इसे संसद में पेश किया जाएगा।

सरकार ने नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था एक जुलाई से लागू करने का लक्ष्य रखा है। कैबिनेट चार संबंधित विधेयकों मुआवजा कानून, केंद्रीय जीएसटी (सी-जीएसटी), एकीकृत जीएसटी (आई-जीएसटी), केंद्र शासित जीएसटी (यूटी-जीएसटी) पर विचार कर सकता है। जीएसटी परिषद ने अपनी पिछली दो बैठकों में राज्य जीएसटी (एस-जीएसटी) के साथ चारों विधेयकों को मंजूरी दे दी।

एस-जीएसटी को प्रत्येक राज्य विधानसभा में पारित किया जाना है जबकि अन्य चार कानून को संसद को मंजूरी देनी है। मंजूरी के बाद जीएसटी कानूनी रूप से वैध हो जाएगा। सरकार को उम्मीद है कि सी-जीएसटी, आई-जीएसटी, यूटी-जीएसटी और जीएसटी मुआवजा विधेयक संसद के मौजूदा सत्र में पारित हो जाएगा और एस-जीएसटी को जल्दी ही राज्यों के विधानसभाओं से मंजूरी मिल जाएगी जिससे नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था को एक जुलाई से लागू करने में मदद मिलेगी।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Union Cabinet okays GST supplementary and compensation bills(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

कॉग्निजैंट में छटनी का खतरा, जा सकती है 6,000 से भी ज्यादा लोगों की नौकरीक्या भारत में लीगल है ऑनलाइन पोकर? गेमिंग इंडस्ट्री में पारंपरिक कैसिनो की पेशकश कर रही हैं वेबसाइट्स
यह भी देखें

जनमत

पूर्ण पोल देखें »