PreviousNext

ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्सचेंज के लिए जरूरी है गोपनीयता: स्विस बैंक

Publish Date:Mon, 19 Jun 2017 12:25 AM (IST) | Updated Date:Mon, 19 Jun 2017 08:46 AM (IST)
ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्सचेंज के लिए जरूरी है गोपनीयता: स्विस बैंकऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्सचेंज के लिए जरूरी है गोपनीयता: स्विस बैंक
स्विट्जरलैंड के बैंकों का कहना है कि भारत को सूचनाओं की गोपनीयता बनाए रखनी होगी

नई दिल्ली (जेएनएन)। स्विटजरलैंड के बैंकों ने भारत से कहा है कि वो नई ऑटोमैटिक इंफॉर्मेशन एक्सिचेंज व्यवस्था के तहत नागरिकों के स्विस बैंक खातों के बारे में दी गई सूचना की गोपनीयता को सुनिश्चित करें। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि अगर भारत ऐसा नहीं करता है तो वो आगे कोई भी सूचना उसके साथ साझा नहीं करेंगे। गौरतलब है कि बीते शुक्रवार को स्विस फेडरल काउंसिल ने भारत तथा 40 अन्य क्षेत्रों के साथ एईओआई को मंजूरी दी है। यह मंजूरी इसलिए दी है ताकि संदिग्ध कालाधन के ब्योरे को तत्काल साझा किया जा सके।

भारत को साल 2019 में मिलेगा आंकड़ों का पहला सेट:

स्विटजरलैंड ने स्पमष्टय किया है कि स्विस सरकार तथा उसके बैंक भारत की तरफ से विभिन्न देशों से प्राप्त ब्योरा के संदर्भ में आंकड़ा संरक्षण के लिए किए गए उपायों पर अपनी नजर बनाए रखेंगे। आपको बता दें कि भारत के साथ यह समझौता 2018 में लागू होगा और आंकड़ों का पहला सेट 2019 में साझा किया जाएगा।

स्विस बैंकों के एसोसिएशनों ने क्या कहा:

स्विस बैंकों की एसोसिएशनों के अधिकारियों ने बताया कि इस क्रियान्व यन योजना से उन्हें अन्य वित्तीयय केंद्रों की ओर से इसे लागू करने तथा भारत एवं सूचना प्राप्त करने वाले अन्य क्षेत्रों में गोपनीयता तथा आंकड़ा संरक्षण के पालन के बारे में अध्ययन करने का बेहतर समय मिलेगा।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Swiss bank says secrecy is needed for automatic info exchange(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

एसोचैम ने की सरकार से मांग, कहा जीएसटी को फिलहाल टाला जाएअगर गांवों में WhatsApp काम कर सकता है जो जीएसटी प्लेटफॉर्म भी करेगा: जीएसटीएन प्रमुख
यह भी देखें