PreviousNext

सर्विस चार्ज देना अनिवार्य नहीं, खाने से असंतुष्ट होने पर बिल से हटवा सकते हैं इस शुल्क को

Publish Date:Tue, 03 Jan 2017 10:30 AM (IST) | Updated Date:Tue, 03 Jan 2017 01:55 PM (IST)
सर्विस चार्ज देना अनिवार्य नहीं, खाने से असंतुष्ट होने पर बिल से हटवा सकते हैं इस शुल्क को
सेवाओं से असंतुष्ट होने पर ग्राहक चाहें तो वे इस चार्ज को बिल से हटाने के लिए कह सकते हैं। अमूमन बड़े होटल और रेस्तरां के खाने के बिलों में सर्विस चार्ज भी जुड़ा होता है

नई दिल्ली (जागरण ब्यूरो)। रेस्तरां और होटल में जाने वाले ग्राहकों के लिए खुशखबरी। सरकार ने साफ किया है कि इनके खाने के बिल में लगने वाला सेवा शुल्क अनिवार्य नहीं है। सेवाओं से असंतुष्ट होने पर ग्राहक चाहें तो वे इस चार्ज को बिल से हटाने के लिए कह सकते हैं। अमूमन बड़े होटल और रेस्तरां के खाने के बिलों में सर्विस चार्ज भी जुड़ा होता है। अब से रेस्तरां या होटल जाएं तो इस बात पर जरूर ध्यान दें।

केंद्र सरकार ने रायों से यह भी कहा है कि वे सुनिश्चित करें कि होटल और रेस्तरां में सेवा शुल्क के बारे में यह जानकारी सूचनापट पर डिस्प्ले की गई हो। केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्रलय ने इस बाबत एक आधिकारिक बयान जारी किया है। इसमें कहा गया कि ग्राहकों से ‘सर्विस चार्ज’ वसूलने के संबंध में कई शिकायतें मिली हैं। इसे टिप्स के एवज में 5 से 20 फीसद की रेंज में लिया जाता है। सेवा कैसी भी दी हो, होटल और रेस्तरां इसे उपभोक्ता से जबरन वसूल लेते हैं।

मंत्रलय ने होटल एसोसिएशन ऑफ इंडिया से इसको लेकर जवाब मांगा था। एसोसिएशन ने सफाई देते हुए मंत्रलय को बताया है कि सर्विस चार्ज पूरी तरह ग्राहकों के विवेक पर निर्भर है। खाने से असंतुष्ट होने पर वे बिल से इस शुल्क को हटवा सकते हैं। लिहाजा यह माना जाना चाहिए कि ग्राहक की स्वेछा से ही इसे ले सकते हैं। उपभोक्ता सुरक्षा अधिनियम, 1986 के प्रावधानों को रेखांकित करते हुए मंत्रलय ने कहा है कि अगर किसी कंयूमर को अनुचित ढंग से पैसा देने के लिए मजबूर किया जाता है तो वह इसकी शिकायत कंयूमर फोरम से कर सकता है। देश में यादातर ग्राहकों को इस बात की जानकारी नहीं है कि सर्विस चार्ज देने या नहीं देने का विकल्प उसके पास होता है। लिहाजा उन्हें रेस्तरां से इसके बारे में पूछना चाहिए।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:service charge not compulsory to pay(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

जीएसटी काउंसिल: आज शाम होगी 8वीं बैठक, हिस्सा लेंगे 6 बड़े सेक्टर के अधिकारीअर्थव्यवस्था पर दिखने लगा नोटबंदी का असर, दोपहिया वाहनों को भी हुआ नुकसान
यह भी देखें