इंटर की उत्तर पुस्तिका की जांच आज से, लग सकता है ग्रहण

Publish Date:Sat, 18 Mar 2017 03:00 AM (IST) | Updated Date:Sat, 18 Mar 2017 03:00 AM (IST)
इंटर की उत्तर पुस्तिका की जांच आज से, लग सकता है ग्रहणइंटर की उत्तर पुस्तिका की जांच आज से, लग सकता है ग्रहण
पूर्णिया। इंटरमीडिएट की उत्तर पुस्तिका का मूल्यांकन पूर्णिया में 18 मार्च से शुरू होना है लेकिन वित्त रहित शिक्षकों एवं माध्यमिक शिक्षक संघ द्वारा मूल्यांकन कार्य का बहिष्कार का न

पूर्णिया। इंटरमीडिएट की उत्तर पुस्तिका का मूल्यांकन पूर्णिया में 18 मार्च से शुरू होना है लेकिन वित्त रहित शिक्षकों एवं माध्यमिक शिक्षक संघ द्वारा मूल्यांकन कार्य का बहिष्कार का निर्णय लिए जाने से इस पर ग्रहण लगने की आशंका है। हालांकि मूल्यांकन की सारी तैयारी पूरी कर ली गई है। केंद्राधीक्षक विनय कुमार ¨सह ने बताया कि 15 मार्च से ही मूल्यांकन शुरू होना था ¨कतु विधान परिषद चुनाव का मतगणना केंद्र होने के कारण इसकी शुरुआत होने में विलंब हुआ है।

सवा लाख उत्तर पुस्तिकाओं की होनी है जांच

पूर्णिया कॉलेज में इंटरमीडिएट की उत्तर पुस्तिका का मूल्यांकन केंद्र बनाया गया है। यहां करीब सवा लाख कॉपियों की जांच की जाएगी। मूल्यांकन केंद्र प्रभारी विनय कुमार ¨सह के अनुसार करीब 375 इनविजिलेटर को जांच के लिए पत्र दिया गया है। मूल्यांकन के लिए 75 हेड एक्जामिनर बनाए गए हैं जबकि करीब 300 को-एक्जामिनर बनाए गए हैं। सभी को शनिवार को मूल्यांकन केंद्र पर योगदान देने का निर्देश दिया गया है। हालांकि मूल्यांकन का कार्य 15 मार्च से ही शुरू होना था लेकिन विधान परिषद की मतगणना के कारण समय पर मूल्यांकन का कार्य नहीं शुरू हो पाया। 15 को मतगणना खत्म होने के बाद उत्तर पुस्तिका के मूल्यांकन को लेकर कॉलेज में सारी तैयारी पूर्ण कर ली गई है लेकिन वित्त रहित शिक्षकों द्वारा बहिष्कार की घोषणा के कारण मूल्यांकन शुरू होने में बाधा आ सकती है।

वित्त रहित शिक्षकों ने लिया है बहिष्कार का निर्णय

मूल्यांकन कार्य में काफी संख्या में वित्त रहित शिक्षकों को लगाया गया है लेकिन बिहार सरकार की शिक्षा नीति के खिलाफ वित्त रहित शिक्षा संयुक्त मोर्चा ने इंटरमीडिएट परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन कार्य के बहिष्कार का निर्णय लिया है। वित्त रहित शिक्षकों का कहना है कि बिहार सरकार की गलत नीति के कारण आज वित्त रहित शिक्षकों का भविष्य खराब हो रहा है। इसी वजह से शिक्षा का स्तर नीचे जा रहा है। जब शिक्षकों का पेट नहीं भर रहा है तो वे छात्रों को कैसे शिक्षा दे पाएंगे। मोर्चा के जिला सचिव अशोक मलिक ने बताया कि वित्त रहित शिक्षक मूल्यांकन कार्य का बहिष्कार का निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि शनिवार को कॉलेज गेट पर वित्त रहित शिक्षक धरना देकर मूल्यांकन कार्य का बहिष्कार करेंगे। बताया कि मान्यता प्राप्त कॉलेज के शिक्षक भी उन लोगों के साथ हैं। बताया कि माध्यमिक शिक्षक संघ के सदस्य भी समान काम का समान वेतन की मांग को लेकर मूल्यांकन कार्य का बहिष्कार करने का समर्थन करेंगे। जब तक सरकार उन लोगों की मांग नहीं मानती तब तक उन लोगों का असहयोग जारी रहेगा।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:education(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

यह भी देखें