PreviousNext

प्रोन्नति बाद भी नहीं निकलेगा समाधान, 2240 स्कूलों में नहीं हैं प्रधान

Publish Date:Wed, 14 Sep 2016 08:29 PM (IST) | Updated Date:Wed, 14 Sep 2016 08:29 PM (IST)
पूर्णिया। वर्षों इंतजार के बाद शिक्षकों की प्रोन्नति का रास्ता साफ हो गया है।

पूर्णिया। वर्षों इंतजार के बाद शिक्षकों की प्रोन्नति का रास्ता साफ हो गया है। बावजूद अब भी 2100 से अधिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापकों की कमी रह जायेगी। जिले में 2240 विद्यालयों में प्रधानाध्यापक का अभाव है। जिला शिक्षक प्रोन्नति समिति ने 83 शिक्षकों को प्रधानाध्यापक एवं 69 को विचारणीय प्रोन्नति की औपबंधिक सूची जारी की है। दावा आपत्ति के बाद प्रोन्नत शिक्षकों की सूची जारी की जाएगी। उम्मीद है कि 80-85 शिक्षकों को प्रधानाध्यापक पद पर प्रोन्नति मिल जाएगी। स्थापना डीपीओ रीतेश कुमार झा का कहना है कि प्रधानाध्यापक पद के लिए शिक्षक आवश्यक अहर्ताएं पूरा नहीं कर पा रहे हैं जिस कारण विद्यालयों में प्रधानाध्यापक के पद खाली है।

2240 विद्यालयों में नहीं हैं शिक्षक-

जिले में कई साल से शिक्षकों को प्रोन्नति नहीं मिल पाई है जिस कारण शिक्षक प्रधानाध्यापक नहीं बन पा रहे हैं। फलस्वरूप जिले के सभी 2240 प्राथमिक व मध्य विद्यालय बिना प्रधानाध्यापक के चल रहे हैं। जिले में 842 मध्य एवं 1398 प्राथमिक विद्यालय हैं जहां प्रधानाध्यापक नहीं हैं। उक्त विद्यालयों में वरिष्ठ शिक्षकों को प्रधान का प्रभार दिया गया है। प्रभारी प्रधानाध्यापक को सीमित अधिकार होने के कारण विद्यालयों का समुचित विकास नहीं हो रहा है। लेकिन अब जिला शिक्षक प्रोन्नति समिति की बैठक संपन्न हुई है जिससे कुछ शिक्षकों के प्रधानाध्यापक बनने की उम्मीद जगी है।

529 शिक्षकों के प्रोन्नति की बनी है औपबंधिक सूची:-

जिला शिक्षा प्रोन्नति समिति की बैठक जिला शिक्षा पदाधिकारी के नेतृत्व में आयोजित की गई जिसमें प्राथमिक एवं मध्य विद्यालयों के 529 शिक्षकों की प्रोन्नति की औपबंधिक सूची पर मुहर लगा दी गई। उक्त औपबंधिक सूची को सभी प्रखंडों में भेजा गया है। जहां अगले 15 दिनों तक उस पर दावा-आपत्ति आमंत्रित की गई है। दावा आपत्ति प्राप्त होने के बाद प्रोन्न्त शिक्षकों की अंतिम सूची जारी की जाएगी। तत्पश्चात प्रोन्नत शिक्षकों को विद्यालयों में पदस्थापित किया जायेगा। जारी औपबंधिक सूची में 83 को प्रधानाध्यापक एवं 69 को विचारणीय प्रोन्नति की सूची में रखा गया है। जबकि 288 बीए प्रशिक्षित एवं 89 बीएससी प्रशिक्षित की श्रेणी में रखा गया है। शिक्षकों के प्रोन्नति की अंतिम सूची इस माह के अंत तक जारी होने की उम्मीद जताई जा रही है। प्राथमिक शिक्षक संघ गोप गुट के जिला अध्यक्ष अर¨वद ¨सह एवं सचिव राजकिशोर प्रसाद का कहना है कि प्रोन्नति के बाद उम्मीद है कि 80 से 85 शिक्षक हेडमास्टर बन जाएं। इसके बावजूद 2100 से अधिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक का अभाव रह जायेगा।

विभागीय लापरवाही के कारण है प्रधानाध्यापकों की कमी:-

विभागीय लापरवाही के कारण जिले में प्रधानाध्यापकों की कमी बनी हुई है। दरअसल 2010 के बाद से जिले में शिक्षकों की प्रोन्नति नहीं मिल पाई है। अगर हर साल प्रोन्नति समिति की बैठक होती और वरीय शिक्षकों को नियमाकुल प्रोन्नति दी जाती तो आज यह नौबत नहीं आती। दरअसल प्रधानाध्यापक पद के लिए बीए-बीएससी ट्रेंड होना आवश्यक है। उक्त ट्रेड शिक्षकों को चार साल का अनुभव भी होना आवश्यक है। बीए बीएससी ट्रेंड शिक्षक चार साल तक स्कूलों में कार्यरत रहने के बाद ही हेडमास्टर पद के लिए उपयुक्त माने जाएंगे। लेकिन यहां लगभग सात सालों से बीए बीएससी शिक्षकों को ही प्रोन्नति नहीं मिल पाई है। जिले में प्रोन्नति समिति की बैठक नहीं होने के कारण शिक्षकों की प्रोन्नति रूकी हुई है। इस बार लगभग 377 शिक्षकों के बीए बीएसी के पद पर प्रोन्नति मिली है जिन्हें चार वर्ष बाद हेडमास्टर बनने का मौका मिलेगा। विभागीय लापरवाही के कारण फिलहाल इस प्रोन्नति के बाद भी 2100 विद्यालय प्रभारी प्रधानाध्यापकों के सहारे चलेंगे।

--------------------------------------------------------

कोट के लिए -

विद्यालयों में प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति की प्रक्रिया जारी है। हाल में जिला शिक्षक प्रोन्नति समिति की बैठक में साढे पांच सौ शिक्षकों की प्रोन्नति की औपबंधिक सूची जारी की गई है। जिसमें 83 को प्रधानाध्यापक व 69 को विचारणीय प्रोन्नति के लिए नामित किया गया है। दावा-आपत्ति के बाद उम्मीद है कि 80-85 शिक्षकों को प्रधानाध्यापक पद के लिए प्रोन्नति मिल जाएगी। इसके बावजूद 2000 से अधिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक की कमी रह जायेगी। शर्तें पूरा नहीं किये जाने के कारण प्रधानाध्यापक का पद यहां रिक्त है।

रीतेश झा, डीपीओ, स्थापना, पूर्णिया।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:education(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

अवैध संबंध छुपाने के लिए बालक की कर दी हत्यानिगम कार्यालय के गेट पर जड़ा ताला, काम-काज ठप
यह भी देखें

जनमत

पूर्ण पोल देखें »