PreviousNext

शरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खतरे में, जानिए वजह

Publish Date:Tue, 12 Sep 2017 02:17 PM (IST) | Updated Date:Wed, 13 Sep 2017 09:41 AM (IST)
शरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खतरे में, जानिए वजहशरद यादव और अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खतरे में, जानिए वजह
जदयू के बागी नेताओं शरद यादव और अली अनवर को राज्यसभा सचिवालय ने नोटिस जारी कर पूछा है कि क्यों ना आपकी सदस्यता समाप्त कर दी जाए?

पटना [जेएनएन]। जदयू के बागी नेता शरद यादव और अली अनवर को राज्यसभा सचिवालय ने नोटिस भेजकर पूछा है कि क्यों ना आपकी सदस्यता रद कर दी जाए? इस नोटिस के बाद इन दोनों नेताओं पर  राज्यसभा की सदस्यता खत्म होने की तलवार लटक गई है।

जदयू की ओर से औपचारिक तौर पर पार्टी विरोधी गतिविधियों को लेकर राज्यसभा सचिवालय में शिकायत दर्ज कराई गई थी, जिसके बाद राज्यसभा सचिवालय की ओर से दोनों नेताओं को नोटिस जारी किया गया है। पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव और राज्यसभा सांसद अली अनवर ने बागी तेवर अख्तियार किया हुआ है। दोनों नेता लगातार जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार पर हमले बोल रहे हैं। 

बता दें कि जेडीयू के बागी नेता शरद यादव को राज्यसभा सदस्यता से आयोग्य ठहराने के लिए पिछले दिनों राज्यसभा में जेडीयू संसदीय दल के नेता आरसीपी सिंह और महासचिव संजय झा ने सभापति वेंकैया नायडू को ज्ञापन दिया था।

पार्टी के नेशनल जनरल सेक्रटरी संजय झा ने बताया, 'हमारी पार्टी ने पहले ही यादव को एक पत्र भेजकर उन्हें लालू की रैली में शामिल नहीं होने के लिए कहा था। इसके साथ ही उन्हें बताया गया था कि अगर वह शामिल होते हैं तो इसे उनका पार्टी को स्वेच्छा से छोड़ना माना जाएगा।'

बीजेपी के खिलाफ विपक्ष की एकता को दिखाने के लिए आरजेडी ने पटना में 27 अगस्त को एक रैली का आयोजन किया था। इसमें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी हिस्सा लिया था।

झा ने कहा कि यह स्पष्ट तौर पर आरजेडी की रैली थी और शरद यादव ने पहले से चेतावनी मिलने के बावजूद इसमें हिस्सा लेकर जेडीयू के सिद्धांतों का उल्लंघन किया।

यह भी पढ़ें: बिहार: महागठबंधन टूटने के बाद लालू परिवार भूल रहा भाषा की मर्यादा

झा का कहना था कि 'रैली का आयोजन आरजेडी ने किया था, जेडीयू ने नहीं। शरद यादव ने हमारी पार्टी की ओर से मना करने के बावजूद रैली में जाकर भाषण दिया। यह निराशाजनक है कि हमारी पार्टी के आरजेडी के भ्रष्टाचार के खिलाफ स्पष्ट रुख रखने के बावजूद यादव ने इसके बारे में कुछ नहीं बोला।'

बता दें कि बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद जदयू के कुछ नेता नाराज चल रहे हैं और उन्होंने पार्टी के खिलाफ बगावत की थी। पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव, अली अनवर सहित कुछ और नेताओं ने पार्टी से बगावत की और महागठबंधन टूटने के बाद लगातार पार्टी विरोधी बयान दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें: लालू परिवार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, IT राबड़ी-हेमा से पटना में करेगी पूछताछ

पार्टी से चेतावनी मिलने के बाद भी वेबगावती सुर अपनाए हुए हैं। एेसे में पार्टी उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मजबूर हो गई है।

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Rajyasabha secretariat send notice to JDU rebel leaders sharad yadav and ali anwar(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

बिहार कैबिनेट की बैठक में 16 एजेंडों पर लगी मुहर, IT निवेश प्रोत्‍साहन विजन को मंजूरीजदयू के प्रदेश अध्यक्ष का बड़ा बयान, मध्यावधि चुनाव के लिए हम हैं तैयार
यह भी देखें