PreviousNext

शरद व अली अनवर की सदस्यता खत्म कराने को जदयू ने वेंकैया को सौंपा पत्र

Publish Date:Tue, 05 Sep 2017 05:48 PM (IST) | Updated Date:Tue, 05 Sep 2017 11:29 PM (IST)
शरद व अली अनवर की सदस्यता खत्म कराने को जदयू ने वेंकैया को सौंपा पत्रशरद व अली अनवर की सदस्यता खत्म कराने को जदयू ने वेंकैया को सौंपा पत्र
बागी नेता शरद यादव की राज्‍यसभा सदस्यता खत्म करवाने के लिए जदयू नेता आरसीपी सिंह और एसके झा ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू से मिलकर मेमोरेंडम सौंपा।

पटना [जेएनएन]। जदयू के बागी नेता शरद यादव व अली अनवर की राज्यसभा सदस्यता खत्म कराए जाने की कवायद मंगलवार को आरंभ हो गई। राज्यसभा में जदयू के नेता आरसीपी सिंह और राष्ट्रीय सचिव संजय झा ने उप राष्ट्रपति और राज्य सभा के सभापति वेंकैया नायडू से भेंटकर उन्हें पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पत्र सौंपा।पत्र में  दोनों नेताओं की राज्यसभा सदस्यता खत्म करने की बात कही गई है।

मालूम हो कि पटना के गांधी मैदान में  27 अगस्त को राजद की रैली में जदयू के दोनों सांसदों ने मंच साझा किया था। उसी दिन जदयू की ओर से आधिकारिक तौर पर यह वक्तव्य आया था कि दोनों की राज्यसभा सदस्यता खत्म कराए जाने को ले राज्यसभा के सभापति को पत्र लिखा जाएगा।

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव संजय झा ने बताया कि शरद यादव को जदयू की ओर से आधिकारिक तौर पर यह पत्र लिखा गया था कि वे राजद की  रैली में शामिल न हों। पार्टी के निर्देश का उल्लंघन कर उन्होंने राजद की रैली में मंच साझा किया। यह संविधान के दसवें अनुच्छेद के तहत स्वत: दल त्याग का मामला बनता है। पूर्व में ऐसे मामलों में सदस्यता खत्म होने के दृष्टांत हैं।

झा ने बताया कि इसके अतिरिक्त पत्र में यह कहा गया कि भ्रष्टाचार के मसले पर राजद से गठबंधन तोडऩे का फैसला जदयू विधानमंडल दल की बैठक में लिया गया था। पार्टी की नेशनल काउंसिल व राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक में एनडीए में शामिल होने का फैसला लिया गया। यह कोई व्यक्तिगत निर्णय नहीं।

शरद यादव जब पार्टी के निर्णय के खिलाफ हैं तो यह साफ है कि वह पार्टी में रहना नहीं चाहते। वह अकेले पार्टी नहीं हो सकते। इसके अतिरिक्त उन्होंने यह कहा कि 27 अगस्त को गांधी मैदान में आयोजित रैली महागठबंधन की रैली थी जबकि रैली राजद की थी।

झा ने कहा कि शरद यादव ने अभी तक एक बार भी लालू प्रसाद के बेनामी संपत्ति के बारे में कोई वक्तव्य नहीं दिया है। सौ से दो सौ करोड़ के कई बेनामी संपत्ति के मामले सामने आ रहे हैं पर शरद यादव चुप तो हैं ही साथ ही साथ आरोपी लोगों के साथ मंच भी साझा कर रहे हैं।

बता दें कि महागठबंधन टूटने के बाद से ही शरद यादव नीतीश कुमार से नाराज चल रहे थे। धीरे-धीरे उन्‍होंने अपना बागी तेवर दिखाना शुरू कर दिया। जदयू दो गुटों में बंट गया। एक नीतीश समर्थित गुट और दूसरा शरद समर्थित गुट। 

बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में हुई राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समय शरद यादव ने उसके समानांतर पटना के श्रीकृष्‍ण मेमोरियल हॉल में कार्यक्रम किया था, जिसमें उनके साथ राज्‍ससभा सांसद अली अनवर, पूर्व मंत्री रमई राम सहित कई नेता श‍ामिल हुए थे। 

शरद यहीं नहीं रूके, पार्टी की ओर से मना किये जाने के बावजूद 27 अगस्‍त को लालू प्रसाद यादव द्वारा भाजपा भगाओ देश बचाओ रैली में मंचासीन हुए। इसके बाद से जदयू की ओर से शरद यादव पर कार्रवाई करने की कवायद तेज हो गई। 

हालांकि, इससे पहले राज्यसभा सदस्यता खत्म करने को लेकर शरद यादव ने जेडीयू की कोशिशों का विरोध किया है। बिहार के मुख्यमंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर बने रहने को ही अब शरद यादव ने चुनौती दे दी है।

शरद यादव ने इस बाबत लोकसभा में जेडीयू के सांसद कौशलेंद्र को पत्र लिखा है और इसके साथ ही उन्होंने राज्य सभा के सभापति वेंकैया नायडू को भी पत्र लिखा है। शरद के इस पत्र को लेकर जेडीयू ने भी उनपर हमला बोला है।

इस पर शरद यादव ने कहा कि इस तरह का पत्र लिखना न तो कौशलेंद्र कुमार के अधिकार क्षेत्र में आता है और न ही वे इसके लिए प्राधिकृत हैं। शरद यादव ने कहा है कि नीतीश कुमार ने खुद ही भाजपा के साथ सरकार बनाकर पार्टी के चुनाव घोषणा पत्र और बुनियादी सिद्धांतों को त्यागकर स्वेच्छा से पार्टी की सदस्यता छोड़ दी है। 

शरद यादव ने कहा है कि चुनाव आयोग के आदेश 1968 के पैरा 15 के तहत आयोग से 25 अगस्त को आग्रह किया गया है कि पार्टी का बहुमत उनके साथ है इसलिए पार्टी का चुनाव चिन्ह उन्हें दिया जाए। इस मामले पर आयोग का फैसला आना बाकी है। 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:JDU leader submit memorandum requesting to cancel Sharad Yadav Rajya Sabha membership(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

लालू ने गरीबों के लिए शुरू करवायी थी ये ट्रेन, बन गई है 'शराब एक्सप्रेस'ED की बड़ी कार्रवाई, लालू की बेटी मीसा भारती का फार्म हाऊस किया सील
यह भी देखें