PreviousNext

गोदाम में मिली किताब तो सस्पेंड होंगे अधिकारी-प्राचार्य

Publish Date:Wed, 13 Sep 2017 09:18 PM (IST) | Updated Date:Wed, 13 Sep 2017 09:18 PM (IST)
गोदाम में मिली किताब तो सस्पेंड होंगे अधिकारी-प्राचार्यगोदाम में मिली किताब तो सस्पेंड होंगे अधिकारी-प्राचार्य
पटना । स्कूली बच्चों के बैग के बजाय जिला, ब्लॉक और स्कूल स्तर के गोदामों में कक्षा एक से अ

पटना । स्कूली बच्चों के बैग के बजाय जिला, ब्लॉक और स्कूल स्तर के गोदामों में कक्षा एक से आठ तक की किताबें मिलीं तो संबंधित अधिकारी और प्राचार्य निलंबित होंगे। पूर्व में आवंटित सभी किताबों का वितरण हो गया है, इस आशय का शपथपत्र जिला शिक्षा पदाधिकारी अपने अधीनस्थ विद्यालयों के प्राचार्यो, संकुल संसाधन केंद्र के समन्वयक, प्रखंड साधन सेवी, प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी, बिहार शिक्षा परियोजना कार्यालय के सहायक कार्यक्रम पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (प्रारंभिक शिक्षा एवं सर्वशिक्षा अभियान) से लेने के बाद राज्य परियोजना निदेशक और बिहार राज्य पाठ्य-पुस्तक प्रकाशन निगम लिमिटेड को ईमेल से देंगे। यह निर्देश शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों और जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों (प्राथमिक शिक्षा एवं सर्वशिक्षा अभियान) को पत्र जारी कर दिया है।

प्रधान सचिव ने कहा कि कई जिलों से सूचना मिली है कि पिछले सत्र में दी गई सभी पुस्तकों का वितरण नहीं हो सका है। विभिन्न स्तर पर बनाए गए गोदामों में अभी भी पुस्तकें स्टोर हैं। विभागीय सूत्रों की मानें तो स्टोर में रखी किताबों की संख्या लाखों में है।

प्रधान सचिव ने बताया कि शैक्षणिक सत्र 2017-18 के विद्यार्थियों के बीच निश्शुल्क वितरण के लिए किताबों की छपाई अंतिम चरण में है। इसका वितरण राज्य के सभी जिलों में प्रखंड मुख्यालय स्थित प्रखंड संसाधन केंद्र पर शीघ्र किया जाएगा। इसके लिए 20 सितंबर तक पुस्तक प्राप्ति के लिए अधिकृत प्रतिनिधि के हस्ताक्षर का नमूना बीएसटीबीपीसीएल के प्रबंध निदेशक को ईमेल के माध्यम से उपलब्ध कराना है।

अक्टूबर तक सभी को मिल जाएंगी किताबें :

शिक्षा विभाग का लक्ष्य अक्टूबर तक सभी बच्चों को नई किताबें उपलब्ध करा देना है। बिहार राज्य पाठ्य पुस्तक प्रकाशन निगम, लिमिडेट डीईओ और डीपीओ को मोबाइल और ईमेल के माध्यम से प्रखंडवार पुस्तक डिलीवरी की जानकारी देगा। नामित प्रखंड साधन सेवी या संकुल संसाधन केंद्र समन्वयक को ही पुस्तक दी जाएगी। मुख्यालय से नियुक्त नोडल पदाधिकारी वितरण की जांच कर रिपोर्ट देंगे।

पांच कार्य दिवस में करना होगा पुस्तकों का वितरण :

प्रधान सचिव ने कहा कि प्रखंड मुख्यालय में पुस्तक प्राप्ति की तिथि से पांच कार्य दिवस के अंदर विद्यालय को यह उपलब्ध करानी होंगी। दो दिन के अंदर प्राचार्य सभी बच्चों के बीच पुस्तकों का वितरण सुनिश्चित करेंगे। इसमें कोताही बरतने वाले पदाधिकारी और प्राचार्य पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। विद्यालय प्रधान बच्चों को पुस्तक देने के बाद वितरण पंजी पर हस्ताक्षर कराएंगे। पूरी प्रक्रिया की जानकारी के लिए संबंधित पदाधिकारियों की बैठक जल्द ही मुख्यालय स्तर पर आयोजित की जाएगी।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:fhhjjj(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

बिहार कैबिनेट की मुहर: यहां बनेगा देश का सबसे लंबा डबल डेकर फ्लाई ओवरअब रेलवे ट्रैक पर होने वाली मौत को रोकने की जिम्मेदारी होगी रेल पुलिस की