PreviousNext

होटलों में सर्विस टैक्स की होती है चोरी

Publish Date:Fri, 21 Apr 2017 03:01 AM (IST) | Updated Date:Fri, 21 Apr 2017 03:01 AM (IST)
जमुई। जमुई जैसे छोटे शहर में आवासीय होटल का कारोबार मजे से फल-फूल रहा है।

जमुई। जमुई जैसे छोटे शहर में आवासीय होटल का कारोबार मजे से फल-फूल रहा है। भले ही इन होटलों का निबंधन न हो लेकिन धरातल पर कई होटलों में वातानुकूलित कमरे की भी व्यवस्था है। इन होटलों में रोजगार से जुड़े लोगों के अलावा नौकरी-पेशा व अन्य कार्यों से जमुई पहुंचने वाले लोगों का ठहराव होता है। बात करें सुरक्षा की तो इस लिहाज से नियमित जांच भी इन होटलों का नहीं किया जाता है। कई मामलों में तो पंजी में संधारण भी नहीं किया जाता है। खासकर संदिग्ध किस्म के लोगों का जब होटलों में ठहराव होता है तो उनसे मुंहमांगा किराया वसूल कर बगैर किसी आईडी प्रुफ के कमरा आवंटित किया जाता है जिसका पंजी में संधारण तक नहीं होता है। इन सबसे अलग सर्विस टैक्स की बात करें तो शायद ही कोई होटल संचालक के द्वारा सर्विस टैक्स भुगतान किया जाता है। टैक्स वसूली में संबंधित विभाग भी खासा मेहरबान होटल संचालकों के प्रति रहते हैं। इसके पीछे वजह क्या है इसको लेकर कई तरह की चर्चाएं होती है। शहर के होटलों में सुविधाओं की बात करें तो कुछेक होटलों को छोड़ दिया जाए तो ठहरने वाले यात्रियों को कोई खास सुविधा नहीं दी जाती है। शहर के कई होटलों में रईस लोगों की चौकड़ी लगती है। उस चौकड़ी में शराबबंदी कानून की खुलकर धज्जियां उड़ाई जाती है। चंद समय के लिए अच्छा-खासा किराया संचालकों को मिल जाता है। शहर में इन बातों की चर्चा सरेआम है कि दिन के उजाले में भी शराब का दौर चलता है।

-------------------

अनैतिक कार्यों का है अड्डा

शहर के कुछ होटलों की प्रसिद्धी अनैतिक कार्य को लेकर लोगों में आम है। इसकी पुष्टि भी पिछले दिनों शहर के एक होटल पर छापेमारी के दौरान हुई गिरफ्तारी से हो चुकी है। ऐसे और भी कई संदिग्ध होटलों की चर्चा आम और खास के बीच सुनी जा सकती है।

-------------------

नहीं होती है नियमित जांच

शहर के होटलों में नियमित जांच की बात प्रशासनिक स्तर पर की जाती रही है। धरातल पर इसकी समीक्षा की जाए तो शायद ही नियमित जांच किया जाता है। नियमित जांच में होटलों में कमरे की तलाशी इंट्री रजिस्टर की जांच तथा आईडी प्रुफ का सत्यापन जैसे गंभीर और महत्वपूर्ण कार्य पुलिस के जिम्मे है।

-------------------

फोटो 20 जमुई - 8,9,10,11

क्या कहते हैं लोग

नीरज कुमार विनोद कहते हैं कि शहर में होटलों की संख्या में इजाफा होने से अतिथियों के आगमन पर सहुलियत मिलती है। अतिथियों को ठहराने से लेकर भोजन आदि का इंतजाम करने में कोई परेशानी नहीं होती है।

विक्कु वर्मा कहते हैं कि शहर में कई होटल शराब का दौर चलने के साथ अन्य संदिग्ध कार्य के लिए प्रसिद्ध है।

संजीव कुमार कहते हैं कि होटलों में नियमित जांच नहीं होने से संदिग्ध लोगों का भी ठहराव होता है और पुलिस को भनक तक नहीं लग पाती है।

सुजीत कुमार विश्वकर्मा कहते हैं कि मध्यम वर्ग से लेकर उच्च वर्ग की सुविधाओं का ख्याल करते हुए हर रेंज में होटल उपलब्ध है। यहां वातानुकूलित कमरा का उपलब्ध होना गर्व की बात है।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:abhiyan(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

ट्रेन से कटकर अज्ञात महिला की मौतपानी की किल्लत,ग्रामीणों ने कई दिनों से नहीं किया स्नान
यह भी देखें